Press "Enter" to skip to content

विकल्प / रिस्क लेना पसंद करते हैं तो ‘रिस्क मैनेजमेंट’ है बेहतर विकल्प

रिस्क की पहचान और वैल्यू कैलकुलेशन के लिए फायनेंशियल सेक्टर में रिस्क मैनेजर की मांग बढ़ रही है। दरअसल, मंदी के बाद कंपनियों ने रिस्क मैनेजमेंट का महत्व नजदीक से महसूस किया है।

विश्व बाजार के साथ लेन-देन, उदारीकरण, तमाम तरह के नियंत्रण, दुनिया भर में फैलते बाजार, बेहतर परफार्मेस की प्रतियोगिता, शेयर होल्डर्स का बढता दबाव, नई तकनीकें, नए प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज, रेग्युलेटरी अथॉरिटीज के कडे नियम जैसे कई मुद्दों के चलते सभी तरह के व्यवसाय में रिस्क मैनेजमेंट का उपयोग और बढने की संभावनाएं हैं।

क्या है रिस्क मैनेजमेंट

किसी भी कंपनी में रिस्क को पहचानने, उनका अनुमान लगाने और उनके आधार पर अहम फैसले लेने की कला को ही  रिस्क मैनेजमेंट कहते हैं। यह कला सब के पास नहीं होती, इसलिए अब यह कला शिक्षण संस्थानों में भी सिखाई जाने लगी है। रिस्क मैनेजमेंट का प्रयोग कई क्षेत्रों में होता है। बाढ़ और भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं से निबटने के लिए सामाजिक क्षेत्र में रिस्क मैनेजमेंट का प्रयोग सबसे ज्यादा किया जाता रहा है।

राष्ट्रीय सुरक्षा नीति और बेसिक डिजास्टर मैनेजमेंट प्लान इसी के अंतर्गत आते हैं। रिस्क मैनेजमेंट का सबसे कारगर हथियार है, इंश्योरेंस। हालांकि इंश्योरेंस पॉलिसी खरीद लेना ही रिस्क मैनेजमेंट नहीं है। अच्छा रिस्क मैनेजमेंट वह है, जो नुकसान का पूर्वानुमान लगाकर उसे होने से रोक सके।

कोर्स और संस्थान

रिस्क मैनेजमेंट को ज्यादातर जगह इसे बिजनेस मैनेजमेंट के एक हिस्से के रूप में पढाया जाता है। अलग-अलग क्षेत्रों पर आधारित रिस्क मैनेजमेंट कोर्स भी संचालित किए जाते हैं, जैसे-कॉमर्शियल, फाइनेंशियल, एंटरप्राइजेज रिस्क मैनेजमेंट आदि। हालांकि इस विषय में कई सारे डिग्री कोर्सेज भी शुरू किए गए हैं। इंस्टीट्यूट ऑफ इंश्योरेंस ऐंड रिस्क मैनेजमेंट, हैदराबाद ने एक साल का पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन रिस्क मैनेजमेंट का कोर्स शुरू किया है।

द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स इन इंडिया, नई दिल्ली ने एंटरप्राइज रिस्क मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट कोर्स ऑफर किया है। इसी तरह, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग ऐंड फाइनेंस, मुंबई ने डिप्लोमा इन ट्रेजरी, इनवेस्टमेंट ऐंड रिस्क मैनेजमेंट में डिप्लोमा कोर्स ऑफर किए हैं। इसी तरह, इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ फाइनेंशियल प्लानिंग, नई दिल्ली, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ कैपिटल मार्केट्स, नवीं मुंबई में भी रिस्क मैनेजमेंट से संबंधित कोर्सेज संचालित होते हैं।

कहां हैं अवसर

रिस्क मैनेजर्स के रूप में विभिन्न क्षेत्रों में काम किया जा सकता है, जैसे- स्मॉल, मीडियम और लार्ज स्केल इंडस्ट्रीज, सरकारी क्षेत्र, इंश्योरेंस कंपनी, बैंक, फाइनेंशियल सर्विसेज, कॉरपोरेट एजेंट्स, इंश्योरेंस सर्वेयर, रिस्क मैनेजमेंट कंसल्टेंट, आईटीईएस, एनजीओ, ट्रांसपोर्ट, इंजीनियरिंग कंपनी, डिफेंस हॉस्पिटल, पैरामिलिट्री फोर्स, रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन आदि। इन क्षेत्रों में नौकरियों की भरमार है और निकट भविष्य में इसमें और बहार आने की उम्मीद है।

More from करियरMore posts in करियर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *