Press "Enter" to skip to content

सोशल हलचल

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। नागरिकता संशोधन विधेयक के बारे में सर्वोच्च न्यायालय ने जो राय अभी दी है, उससे देश के गैर-भाजपाई राज्य नाखुश होंगे और वे सब लोग भी, जो इस कानून के विरुद्ध सारे देश में प्रदर्शन आदि कर रहे हैं। कई राज्यों ने तो नागरिकता रजिस्टर और उक्त…
डॉ. वेदप्रताप वैदिक। एक तरफ डोनाल्ड ट्रंप और इमरान दावोस में मिल रहे हैं और ट्रंप कह रहे हैं कि आप चाहें तो मैं कश्मीर के मामले में मध्यस्थता करुं? मोदी और ट्रंप की घनिष्टता से कौन परिचित नहीं है? उन्होंने मोदी को ‘भारत का पिताजी’ कहा था। ट्रंप ने…
भारतीय जनता पार्टी जिसे लोग बीजेपी भी कहते हैं। ये दावा करते हैं कि इनकी पार्टी दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है। इसी बड़ी पार्टी के एक बड़े नेता हैं कैलाश विजयवर्गीय जिन्होंने हालही में कहा कि उनके घर पर निर्माण कार्य करने वाले कुछ मजदूरों के बांग्लादेशी होने…

अर्थव्यवस्था / वो 7 कारण जिनसे चीन, ‘भारत’ से पांच गुना आगे है

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। आज चीन की प्रति व्यक्ति आय के आंकड़े देखकर मेरे दिमाग में कई सवाल एक साथ उठते रहे। चीन की प्रति व्यक्ति आय 10 हजार डॉलर से ज्यादा है जबकि भारत की प्रति व्यक्ति आय 2000 डॉलर के आस-पास है। याने चीन हमसे पांच गुना आगे है।…

विषमता / सवाल: दुनिया में गरीबी क्यों हैं? जबाव: तो क्या ये है वजह

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। ऑक्सफोम की एक रिपोर्ट कहती है कि मुताबिक भारत के एक प्रतिशत अमीरों के पास देश के 70 प्रतिशत लोगों से ज्यादा पैसा है। ज्याता यानी क्या? इन एक प्रतिशत लोगों के पास 70 प्रतिशत लोगों के पास जितना पैसा है, उससे चार गुना ज्यादा है। सारी…

कुपोषण / सूडान में आर्थिक संकट इतना कि चिड़ियाघर में शेर भी बीमार

सूडान, उत्तरी पूर्व अफ्रीका में स्थित एक देश है। यह अफ्रीका और अरब जगत का सबसे बड़ा देश है, क्षेत्रफल के लिहाज से दुनिया का दसवां सबसे बड़ा देश है। लेकिन इन दिनों ये पूरे विश्व में चर्चा का विषय बना हुआ है, वजह है यहां का आर्थिक संकट। सूडान…

मीडिया विमर्श / साहित्यिक पत्रकारिता के लिए 9 फरवरी क्यों हैं खास

बृजलाल द्विवेदी स्मृति पत्रकारिता सम्मान से अलंकृत किए जाएंगे कमलनयन पाण्डेय। 9 फरवरी, 2020 को ‘मीडिया विमर्श’ के आयोजन में होंगे सम्मानित। पं. बृजलाल द्विवेदी स्मृति अखिल भारतीय साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान इस वर्ष त्रैमासिक पत्रिका ‘युगतेवर’ (सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश) के संपादक कमलनयन पाण्डेय को दिया जाएगा। सम्मान समारोह आगामी 09…

नियमितीकरण / कमलनाथ सरकार की मनमानी, अतिथि विद्वानों का धरना जारी

चित्र: धरने पर बैठे अतिथि विद्वान। 2 दिसंबर, 2018। मौसम ज्यादा सर्द नहीं था। कुछ लोग जो संख्या में ज्यादा थे मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा पहुंच रहे थे। ये अतिथि विद्वान थे। जो कई साल से मध्यप्रदेश के उन सरकारी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में पदस्थ थे। जहां पढ़ाई के लिए कई…

छपाक / पहले फिल्म, फिर प्रमोशन तो क्या भारत में एसिड अटैक रुक जाएगा?

हिंदी फिल्म छपाक रिलीज होने में अब ज्यादा वक्त नहीं है। दीपिका पादुकोण फिल्म में मुख्य किरदार के रूप में दिखाई देंगी तो वह फिल्म की निर्माता भी हैं। हालही में वो जेएनयू पहुंची जहां उन्होंने कहा कुछ नहीं लेकिन इस बात को फिल्म पब्लिसिटी से जोड़ कर देखा जा…

अलविदा / आशा-निराशा और दुर्दशा के बीच इतिहास में शामिल हो रहा 2019

किसी भी जाते हुए साल, बीते हुए समय को लोग याद कहां करते हैं। कई बार बीते दिन सुखद ही लगते हैं। फिर भी यह दिन नहीं है, साल है। वह भी 2019 जैसा। जिसने भारत की राजनीति, समाज, संस्कृति और उसके बौद्धिक विमर्शों को पूरा का पूरा बदल दिया…

राजनीति / प.बंगाल और केरल में क्यों हैं एनपीआर को लेकर मतभेद

प्रतीकात्मक चित्र। केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) को अपडेट करने की मंजूरी दे दी है। यह निर्णय उस समय लिया गया जब देश में नागरिकता कानून का विरोध और चल रहा है। हालही में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘जनगणना के…

वीडियो / तो क्या प्रज्ञा ठाकुर को संसद पहुंचा कर मतदाता अफसोस करते हैं?

क्या प्रज्ञा ठाकुर को संसद पहुंचा कर भोपाल के मतदाता अफसोस करते हैं? यह एक जटिल प्रश्न हैं। क्योंकि जिस मतदाता ने उन्हें अपना बहुमूल्य मत देकर भोपाल सांसद के पद पर पहुंचाया वो सांसद भोपाल के मतदाताओं के विश्वास का मखौल उड़ाने में नहीं चूकती हैं। वह कभी हत्यारे…

बात उन दिनों की / देश की पहली मालगाड़ी की वो रोचक बातें जो आप नहीं जानते

168 साल पहले देश के इतिहास में 22 दिसंबर, 1851 का वो दिन बहुत खास था। वजह थी उस दिन भारत में पहली बार मालगाड़ी ने पटरी पर रफ्तार पकड़ी थी। यह मालगाड़ी रुड़की से पिरान कलियर के बीच चलाई गई। यह रेलवे लाइन ग्रेट इंडियन पेनिनसुला रेलवे ने बनाई…

रिपोर्ट / 2014 के बाद ‘करोड़ों का दान’, लेकिन गंगा कितनी हुई स्वच्छ?

चित्र: उत्तरप्रदेश के कानपुर शहर में गंगा नदी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘नमामि गंगे’ प्रोजेक्ट की समीक्षा के लिए हालही में कानपुर का दौरा किया। कानपुर उन शहरों में से एक है जहां गंगा में गंदगी बड़े स्तर पर बहाई जाती है। सुधार हो रहे हैं, लेकिन पर्याप्त नहीं! केंद्र सरकार…

विश्लेषण / सामाजिक विमर्श में क्यों जरूरी है ‘भारतीयता पर चर्चा’

हमारे सामाजिक विमर्श में इन दिनों भारतीयता और उसकी पहचान को लेकर बहुत बातचीत हो रही है। वर्तमान समय ‘भारतीय अस्मिता’ के जागरण का समय है। यह ‘भारतीयता के पुर्नजागरण’ का भी समय है। ‘हिंदु’ कहते ही उसे दूसरे पंथों के समकक्ष रख दिए जाने के खतरे के नाते, मैं…