Press "Enter" to skip to content

सोशल हलचल

चित्र : सन् 1940, महात्मा गांधी भारत के वायसराय से मिलने के लिए विकराल लॉज रिक्शा से जाते हुए। महात्मा गांधी की मूलतः गुजराती में लिखी पुस्तक ‘हिन्द स्वराज्य’ हमारे समय के तमाम सवालों से जूझती है। महात्मा गांधी की यह बहुत छोटी सी पुस्तिका कई सवाल उठाती है और…
हिंदी पत्रकारिता को यह गौरव प्राप्त है कि वह न सिर्फ इस देश की आजादी की लड़ाई का मूल स्वर रही, बल्कि हिंदी को एक भाषा के रूप में रचने, बनाने और अनुशासनों में बांधने का काम भी उसने किया है। हिंदी भारतीय उपमहाद्वीप की एक ऐसी भाषा बनी, जिसकी…
चित्र : सन् 1931 में भारतीय नागरिकों के प्रतिनिधि के रूप में ‘गोलमेज सम्मेलन’ में भाग लेने के लिए इंग्लैंड के रास्ते में फ्रांस के बौलोग्ने स्टेशन पर सरोजिनी नायडू के साथ महात्मा गांधी। इतिहासकार सुधीर चंद्र की किताब ‘गांधी एक असंभव संभावना’ को पढ़ते हुए इस किताब के शीर्षक…

मुद्दा / सरकार की इस गलत नीति का आम आदमी को होता है सीधा नुकसान

प्रतीकात्मक चित्र ‘आम आदमी’। भारत में शिक्षित बेरोजगारी इतनी ज्यादा है कि यदि केंद्र सरकार लाखों पद पर किसी विभाग में वेकेंसी निकाले तो फिर भी कई करोड़ शिक्षित युवा बेरोजगार ही रहेंगे। इसकी कई वजह हैं। सरकार और आला दर्जे के अधिकारी कहते हैं कि युवाओं में स्किल्स की…

क्लाइमेट स्ट्राइक / ग्रेटा थनबर्ग, पर्यावरण कार्यकर्ता ने की शुरूआत, अब दिल्ली से बच्चों का भी मिला साथ

Picture: Greta Thunberg, Climate activist क्लाइमेट स्ट्राइक 16 साल की स्वीडिश कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा की गई मुहिम है। जो 2018 में शुरू की गई थी। स्वीडन की 16 साल की एक क्लाइमेट एक्टिविस्ट (जलवायु कार्यकर्ता) ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जलवायु परिवर्तन रोकने की दिशा में कुछ…

समीक्षा / भारत और दक्षिण कोरिया के ‘कूटनीतिक संबंध’ में क्या है भारत की भूमिका

सितंबर के पहले हफ्ते में भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पूर्वोत्तर एशिया के पांच दिवसीय दौरे पर थे। दक्षिण कोरिया के बाद जापान उनका दूसरा पड़ाव बन गया। यात्रा के दौरान रक्षा मंत्री ने अपने दक्षिण कोरियाई समकक्ष, जियोंग कोयोंग-डो से मुलाकात की, दोनों नेताओं ने रक्षा और सुरक्षा क्षेत्रों…

हिंदी दिवस / हिंदी भाषा का ‘सम्मान सिर्फ एक दिन नहीं’ हमेशा कीजिए

हर साल की तरह, इस साल भी उन्हीं कुछ चुनिंदा शब्दों से हम हिंदी दिवस की शुभकामनाएं दे चुके हैं, और जल्द भूल जाएंगे! यह कोई नई बात नहीं है। हिंदी का सम्मान एक दिन का सालाना उत्सव नहीं बल्कि हिंदी भाषा की गरिमा का सम्मान किया जाना चाहिए। यह…

शिक्षा / ‘एक देश एक जीएसटी’ तो एक देश समान शिक्षा क्यों नहीं?

हर साल 8 सितंबर को दुनियाभर में विश्व साक्षरता दिवस मनाया जाता है। इस साल यानी 2019 में युनेस्को की महानिदेशक ऑड्रे एजोले ने अपने संदेश में कहा, ‘हमारी दुनिया लगभग 7,000 जीवित भाषाओं के साथ समृद्ध और विविधता को साथ में लेकर चल रही है। आजीवन सीखने के लिए…

मुद्दा / तो क्या नोटबंदी से बिगड़ रहे हैं देश के आर्थिक हालात

अरुण पांडे न ख़ुदा ही मिला न विसाल-ए-सनम यानी न इधर के हुए न उधर के हुए, करीब तीन साल में नोटबंदी से कुछ यही हासिल हुआ है। न जीडीपी ग्रोथ बढ़ी, न जाली नोट छपने का गोरखधंधा थमा और ना ही हम कैशलेस इकोनॉमी बनने का लक्ष्य हासिल कर…

रिपोर्ट / केंद्र ने लिया RBI से 1.76 लाख करोड़, तो क्या अर्थव्यवस्था सुधरेगी?

दावा किया जा रहा है कि भारतीय रिजर्व बैंक से 1.76 लाख करोड़ लेकर मोदी सरकार सार्वजनिक वित्तीय संस्थानों की हालत ठीक करने में मदद करेगी। लेकिन ये दावा कितना सही है इस बात को लेकर संशय बना हुआ है। बहरहाल सरकार जो भी करे वो सही होता है ऐसा…

रिपोर्ट / स्वच्छता मिशन में कितना स्वच्छ हुआ भारत?

चित्र: भारत का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर (मध्यप्रदेश)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पहले कार्यकाल में जहां लाल किले के प्राचीर से स्वच्छता मिशन की शुरूआत की, तो अब प्लास्टिक मुक्त भारत, गांधी जयंती से शुरू किया जाएगा। तो क्या देश स्वच्छ हुआ? स सरकार ने 1986 में केंद्रीय ग्रामीण…

रिपोर्ट / संगीत सिंह सोम पर क्यों है योगी सरकार मेहरबान?

Picture courtesy: Sangeet Singh Som/ Facebook उत्तरप्रदेश के सरधना से बीजेपी विधायक संगीत सिंह सोम एक बार फिर चर्चा में है। कारण है उनके खिलाफ मुजफ्फरनगर दंगे सहित 7 मुकदमें योगी सरकार वापस लेने की तैयारी में है! संगीत सिंह सोम के जिंदगी के पन्ने पलटें तो पता चलता है…

वार्ता / भारत दे रहा भूटान को 4,500 करोड़ रुपए, लेकिन क्यों?

चित्र : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भूटान में भव्य स्वागत। पीएम नरेंद्र मोदी भूटान यात्रा के दौरान उन्होंने 720 मेगावाट (एमडब्ल्यू) मांगेदाचू परियोजना का उद्घाटन करते हुए भूटान-भारत की ऊर्जा साझेदारी मजबूत करने की बात कही है, जिसमें उन्होंने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार की ‘पड़ोस पहले’ नीति को रेखांकित…

इतिहास / भूटान की सिनचुला और पुनरवा संधि में भारत की क्या है भूमिका

सिनचुला संधि, अंग्रेजों द्वारा 1865 में भारत और भूटान में की गई। यह दोनों देशों के संबंधों की शुरुआत थी। इस संधि के द्वारा भूटान को भारतीय रियासत का रूप प्रदान किया गया। ठीक इसी तरह भारत और भूटान के बीच सन् 1910 में दोनों देशों के बीच पुनरवा संधि…

भविष्य / ये है भारत की परमाणु नीति, यदि परमाणु युद्ध हुआ तो क्या होगा!

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हालही में कहा कि ‘भारत परमाणु हथियारों के पहले इस्तेमाल न करने की नीति पर अभी भी कायम है लेकिन भविष्य में क्या होता है यह परिस्थितियों पर निर्भर करता है।’ दरअसल ये सब शुरू हुआ अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर के विशेष…