Press "Enter" to skip to content

समाधान / कोरोना से लड़ाई में, मसाला या औषधि? क्या है हल्दी!

हल्दी भारतीय मसाला और औषधि है। गले में खराश हो या शरीर में दर्द, दूध में हल्दी मिलाकर पी लीजिए सब ठीक हो जाता है। रामबाण औषिधि के तौर पर सदियों से मशहूर हल्दी कोरोना संकट में इम्युनिटी बढ़ाने का काम भी करती है।

विदेशों में हल्दी को सुपरफूड कहा जाता है। लंदन, सैन फ्रांसिस्को और मेलबर्न जैसे के कैफे में इसे महंगे दाम में बेचा जाता है। फाइनेंसियल एक्सप्रेस के मुताबिक दुनिया भर के कुल हल्दी उत्पादन का 75 फीसदी से अधिक हिस्सा भारत में होता है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा हल्दी निर्यातक है और यहां इसकी खपत भी सबसे ज़्यादा है।

दक्षिण भारत के राज्यों- आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में बेहतर क्वालिटी वाली हल्दी का बड़े पैमाने पर उत्पादन होता है। इसे मई से अगस्त के बीच लगाया जाता है और जनवरी आते-आते फसल तैयार होने लगती है। हल्दी उर्वरता और समृद्धि के प्रतीक है यही कारण है कि कई हिंदू समुदायों में शादी जैसे शुभ अवसरों पर के तौर पर हल्दी का उपयोग किया जाता है।

दूध उबालने वाले बर्तन के मुंह पर हल्दी के ताज़े पत्ते और उसकी जड़ आज भी कुछ जगहों पर बांधी जाती है। इसे धनधान्य का प्रतीक माना जाता है। तमिलनाडु में जनवरी के मध्य में होने वाली नई फसल के उत्सव पोंगल में हल्दी की जड़ और पत्तों का इस्तेमाल होता है।

भारतीय हल्दी से घरेलू उपचार करते हैं, जैसे टखने में मोच आ जाए तो हल्दी का लेप लगाया जाता है। सर्दी-जुकाम होने पर हल्दी की गांठ का धुनी की सुंगंध लेने से ये दवा का काम करती है।आयुर्वेद की परंपरागत चिकित्सा प्रणाली में इसका इस्तेमाल सदियों से हो रहा है। हल्दी एकमात्र ऐसी औषधि सामग्री है जो वात, पित्त और कफ (आयुर्वेद के अनुसार मानव शरीर में तीन तरह की ऊर्जा) इन तीनों तरह के दोषों को ठीक करती है

कितनी हल्दी है हेल्दी

हल्दी का रोज सेवन हेल्दी रखता है। हर व्यक्ति को दिन भर में 500 मिलीग्राम हल्दी खाना चाहिए। कई लोग हल्दी को दूध में डालकर पीते हैं। इतना ही नहीं कई कैफे में हेल्दी ड्रिंक के नाम पर भी पाइज, स्मूदीज और यहां तक कि शेक्स में भी हल्दी मिलाई जाने लगी है।

खाली पेट हल्दी का सेवन, शरीर की सफाई के लिए बहुत प्रभावशाली है। हर सुबह सबसे पहले कंचे जितनी बड़ी नीम और हल्दी की गोलियां खाने से शरीर की सफाई अच्छे से हो जाती है और साथ ही कैंसर की कोशिकाएं शरीर से बहार निकल जाती हैं।

नींबू-पानी-हल्दी साथ में पीने के फायदा

  • वजन कम करने में मददगार : सुबह खाली पेट गुनगुने पाने में नींबू-पानी-हल्दी तीनों का मिश्रण पीजिए वजन कम होगा।
  • कैंसर से बचाव : कच्ची हल्दी में कैंसर से लड़ने के अद्भुत गुण होते हैं। पुरुषों में होने वाले प्रोस्टेट कैंसर के सेल्स को बढ़ने से रोकने में भी इन तीनों का मिश्रण काफी लाभदायक है।
  • गठिया रोग में कारगर : गठिया रोग (जोड़ों का दर्द) को मिटाने में हल्दी काफी कारगर औषधि है। रोज हल्दी के सेवन से जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है।
  • लीवर करता है साफ : हल्दी-पानी-नींबू के मिश्रण को रोज पीने से यह लीवर भी साफ रखती है। एक स्वस्थ्य और ऊर्जावान जिंदगी जीने के लिए हल्दी खाने में बेहद जरूरी है।

(आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, लिंक्डिन और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

More from जीने की राहMore posts in जीने की राह »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *