Press "Enter" to skip to content

संसद / अगले 5 साल ‘मोदी सरकार’ कैसे चलेगी? चलेगी या नहीं चलेगी?

Picture courtesy: PM Narendra Modi/Twitter

  • डॉ. वेदप्रताप वैदिक।

संसद का यह सत्र तूफानी होने वाला है, इसमें किसी को ज़रा-सा भी शक नहीं है। राष्ट्रपति के भाषण के दौरान विपक्षी सदस्यों ने जो हंगामा मचाया, वह आने वाले कल की सादी-सी बानगी है। एक अर्थ में यह सत्र तूफानी से भी ज्यादा भयंकर सिद्ध हो सकता है।

आज से 50-55 साल पहले इंदिरा गांधी के कई सत्रों को डॉ. राममनोहर लोहिया और मधु लिमये के द्वारा तूफानी बनते हुए मैंने देखे हैं लेकिन यह 31 बैठकों का सत्र ऐसा होगा, जो मोदी ने कभी न पहले गुजरात में देखा होगा और न ही दिल्ली में देखा है। यह सत्र तय करेगा कि मोदी की सरकार अगले पांच साल कैसे चलेगी? चलेगी या नहीं भी चलेगी?

देश में मचे हुए कोहराम को वह रोक पाएगी या नहीं। यह कोहराम और इसके साथ गिरती हुई आर्थिक हालत अगले छह माह में इस जबर्दस्त राष्ट्रवादी सरकार की दाल पतली कर देगी। भाजपा और संघ में जो गंभीर और दूरदृष्टि संपन्न लोग हैं, उनकी चिंता दिनों दिन बढ़ रही है। वे अभी तक चुप हैं लेकिन वे वैसे कब तक रह पाएंगे? भाजपा के समर्थक और गठबंधन के दल भी सरकार की ‘मजहबी-नीति’ का विरोध कर रहे हैं।

वे नए नागरिकता कानून में संशोधन की मांग कर रहे हैं। मैं भी कहता हूं कि सरकार अपना कदम पीछे न हटाए। इस कानून को रद्द न करें। कदम आगे बढ़ाए। याने या तो पड़ौसी शरणार्थियों में मुसलमानों का नाम भी जोड़ दे या सभी मजहबों के नाम हटा दे और तीन मुस्लिम देशों के साथ सभी पड़ौसी देशों के भी नाम जोड़ दे।

यदि ऐसा करे तो यह कोहराम अपने आप खत्म हो जाएगा। जहां तक अर्थ-व्यवस्था का सवाल है, मैं सोचता हूं कि यदि आयकर एकदम खत्म ही कर दिया जाए तो लोगों के पास खर्च करने की सुविधा बढ़ेगी और टैक्स-चोरी खत्म हो जाएगी। ऐशो-आराम की चीज़ों पर टैक्स बढ़ाकर सरकार अपनी आमदनी को सुरक्षित रख सकती है।

आयकर के खात्मे के लिए वसंत साठे और मैंने 25-30 साल पहले एक आंदोलन भी चलाया था। रोटी, कपड़ा, मकान और इलाज यदि लोगों को न्यूनतम दामों पर मिलें तो देश की अर्थ-व्यवस्था रातों-रात प्राणवंत हो सकती है। यदि इस बजट में अर्थ-व्यवस्था को ठीक से नहीं सम्हाला गया तो देश और सरकार दोनों ही लड़खड़ा जाएंगे।

Support quality journalism – The Feature Times is now available on Telegram and WhatsApp. For handpicked Article every day, subscribe to us on Telegram and WhatsApp. andLike our official Facebook page The Feature Times

More from सोशल हलचलMore posts in सोशल हलचल »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *