Press "Enter" to skip to content

रिपोर्ट / यदि भारत-पाक दोनों करें कारोबार तो होगा 37 अरब डॉलर का फायदा

Pic Courtesy: World Bank

भारत और पाकिस्तान यदि कृत्रिम कारोबारी बाधाओं को दूर कर संभावनाओं पर जोर दें तो दोनों देशों के बीच 37 अरब डॉलर तक का कारोबार हो सकता है। वर्ल्ड बैंक ने अपनी एक रिपोर्ट में यह कहा है। रिपोर्ट कहती है कि भारत और पाकिस्तान के बीच कारोबार की जबरदस्त संभावनाएं है।

तो वहीं, टाइम्स ऑफ इंडिया ने इस रिपोर्ट के हवाले से लिखा है कि अभी दोनों देशों के बीच महज 2 अरब डॉलर का व्यापार होता है लेकिन अगर सारी संभावनाओं को भुनाया जाए तो यह कारोबार 37 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है।

रिपोर्ट ‘ग्लास हाफ फुल: प्रोमिस ऑफ रीजनल ट्रेड’ में कहा गया है कि यदि दोनों देश कृत्रिम बाधाओं को दूर करने के लिए एक साथ आ जाएं तो भारत और पाकिस्तान के कारोबार में बढ़ोतरी हो सकती है। दक्षिण एशिया में पाकिस्तान की संभावित कारोबार वृद्धि को लेकर भी बात की गई है। क्या कहा गया रिपोर्ट में यहां जानें…

• पाकिस्तान का दक्षिण एशियाई देशों के साथ मौजूदा कारोबार महज 5.1 अरब डॉलर का है, लेकिन नीतिगत बाधाओं को दूर कर लिया जाए तो यह कारोबार 39.7 अरब डॉलर के पार पहुंच सकता है।
• भारत और पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर मामले पर बनी सहमति को दोनों पक्षों में विश्वास स्थापित करने वाला कदम बताया गया है।

‘वर्ल्ड बैंक संयुक्त राष्ट्र की विशिष्ट संस्था है। इसका उद्देश्य सदस्य राष्ट्रों के पुनर्निमाण और विकास कार्यों में आर्थिक सहायता देना है। वर्ल्ड बैंक समूह पांच अंतरराष्ट्रीय संगठनों का एक ऐसा समूह है जो सदस्य देशों को वित्तीय सलाह देता है। इसका मुख्यालय वॉशिंगटन डीसी में है।’

ये हैं बाधाएं

• रिपोर्ट में भारत-पाकिस्तान की जिन कृत्रिम बाधाओं को खत्म करने की जरूरत बताई गई है, उनमें पहली है कारोबारी ट्रैरिफ से जुड़े मसले, उच्च लागत और आपसी विश्वास की कमी।
• मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वरिष्ठ अर्थशास्त्री और इस डॉक्यूमेंट को तैयार करने वाले संजय कथुरिया ने इस्लामाबाद में पत्रकारों से कहा है कि अगर दोनों देशों में आपसी विश्वास बढ़ता है तो कारोबार बढ़ेगा ही बढ़ेगा।

Pic Courtesy: World Bank

पड़ोसी मुल्क से हवाई सेवा

• भारत और पाकिस्तान के हवाई परिवहन का आंकड़ा भी रिपोर्ट में दिया गया है। इसमें बताया गया है कि पाकिस्तान की दक्षिण एशियाई देशों के साथ हवाई परिवहन कम है।
• पाकिस्तान की भारत और अफगानिस्तान के साथ हफ्ते में केवल छह उड़ानें हैं। वहीं श्रीलंका और बांग्लादेश के साथ 10 और नेपाल के साथ केवल एक ही है, लेकिन मालदीव और भूटान के साथ कोई उड़ान नहीं है।

‘अंतरराष्ट्रीय राजनीति में कारोबार बढ़ाने के लिए जब कोई देश दूसरे देश को रियायतें और सुविधाएं देता है ताकि दोनों पक्षों में कारोबार में इजाफा हो, तो इस खास दर्जे को एफएफएन स्टेटस कहा जाता है।’

भारत है सबसे आगे

• तो वहीं भारत का हवाई परिवहन व्यवस्था काफी मजबूत है। भारत में श्रीलंका के साथ 147 साप्ताहिक उड़ानें हैं, इसके बाद 67 बांग्लादेश के साथ, मालदीव के साथ 32, नेपाल के साथ 71, अफगानिस्तान के साथ 22 और भूटान के साथ 23 हैं।
• रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान का भारत को एमएफएन स्टेटस (मोस्ट फेवरड नेशन) न देना भी पाकिस्तान के लिए एक बड़ी बाधा है।

साभार : वर्ल्ड बैंक

More from सोशल हलचलMore posts in सोशल हलचल »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *