Press "Enter" to skip to content

नवाचार / ‘वैक्सीन पासपोर्ट’ क्या वैश्विक पर्यटन को पुनर्जीवित कर सकते हैं!

  • अखिल पाराशर, बीजिंग, चीन।

चीन में आने वाले छिंगमिंग फेस्टिवल (भारत में श्राद की तरह एक पर्व) के दौरान कई लोग घरेलू पर्यटन के पुनर्जीवित होने की उम्मीद कर रहे हैं, क्योंकि मोबाइल फोन पर आने वाले हेल्थ कोड अब लोगों को चीन के भीतर सुरक्षित और सुविधाजनक रूप से यात्रा करने में सक्षम बनाता है। लेकिन सवाल यह है कि वैश्विक पर्यटन कब पुनर्जीवित होगा? और क्या वैक्सीन पासपोर्ट इसमें भूमिका निभाएंगे?

दरअसल, आइसलैंड पहला यूरोपीय देश बन गया है जो टीका लगवा चुके अपने नागरिकों को इस तरह का पासपोर्ट जारी कर रहा है और ग्रीस, इटली और स्वीडन जैसे देश उस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। भारत को इस तरह के प्रयोग करने चाहिए ताकि कोरोना महामारी के दौरान अस्त व्यस्त हुई अर्थव्यवस्था को मजबूती दी जा सके।

महामारी के बाद की दुनिया में किस तरह से पर्यटन का विकास होगा और पूर्व-महामारी स्तरों के लिए अंतराष्ट्रीय यात्रा को बहाल कैसे किया जाए, उसके लिए सभी देश निम्नलिखित उपायों पर जरूर विचार कर सकते हैं।

पहला, देशों को अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों को आसान बनाने के लिए, टीकाकरण अभियान चलाकर कोविड-19 समूह प्रतिरोधक क्षमता का निर्माण करना होगा। संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन के नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि कोरोना महामारी के चलते दुनिया भर में कुल 69 गंतव्यों में से 32 गंतव्य अब वैश्विक पर्यटन के लिए पूरी तरह से बंद हैं।

साथ ही, दुनिया भर में 34 प्रतिशत गंतव्य अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के लिए आंशिक रूप से बंद हैं। देश अपने स्वयं के नागरिकों के लिए यात्रा सलाह जारी कर रहे हैं, और गैर-जरूरी विदेशी यात्रा न करने की भी सलाह दे रहे हैं। इसे देखते हुए, यह संभावना है कि प्रभावी रोग नियंत्रण उपाय और तेज टीकाकरण अभियान पर्यटन को पुनर्जीवित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

दूसरा, देशों को हेल्थ कोड के लिए पारस्परिक रूप से मान्यता प्राप्त मानक तंत्र स्थापित करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए। प्रणाली को न केवल प्रौद्योगिकियों और प्रबंधन पर, बल्कि देशों के आपसी विश्वास और समन्वय पर आधारित होने की आवश्यकता है। लेकिन चूंकि विभिन्न देशों में ट्रैवल बबल, वैक्सीन पासपोर्ट और हेल्थ कोड के प्रति अलग-अलग विचार हैं, इसलिए उन्हें उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए संचार, नीति इंटरलिंक और प्रौद्योगिकी साझाकरण को बढ़ाना होगा।

तीसरा, लोगों की व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा के लिए स्थापित तंत्र और प्रौद्योगिकियों को अनुकूलित करना महत्वपूर्ण है। हेल्थ कोड के पीछे ट्रेसिंग, रिकॉर्डिंग और जांच प्रणाली में कानूनी, सांस्कृतिक, नैतिक, वैज्ञानिक और तकनीकी मुद्दे शामिल हैं। सरकारों को एक दुरुस्त स्वास्थ्य प्रमाणन प्रणाली को लागू करने के लिए जनता का विश्वास और प्रशासनिक क्षमता की आवश्यकता होती है, लेकिन इसके साथ स्थानीय कानूनों और सांस्कृतिक परंपराओं को भी ध्यान में रखना होगा।

ऐसे देश जो डिजिटल गोपनीयता के बारे में ज्यादा संवेदनशील हैं और जानकारी के उपयोग, भंडारण और साझा करने के लिए सख्त कानूनी ढांचे हैं, वे लोगों की व्यक्तिगत जानकारी को स्मार्टफोन ऐप में फीड करके महामारी-रोधी उपाय अपनाने से हिचक सकते हैं। हालांकि, ऐसे देश संबंधित घरेलू कानूनों और एन्क्रिप्शन प्रणाली का उपयोग करके डेटा सुरक्षा में सुधार और लोगों की गोपनीयता की सुरक्षा के लिए विश्वसनीयता बढ़ाकर ऐसा कर सकते हैं।

चौथा, एक-दूसरे देशों के स्वास्थ्य प्रमाणपत्रों की पारस्परिक मान्यता के आधार पर वैश्विक पर्यटन को धीरे-धीरे फिर से शुरू किया जाना चाहिए। ऐसे देश और क्षेत्र जो एक दूसरे के साथ अच्छे संबंध रखते हैं और अपनी सीमाओं के भीतर वायरस के प्रसार को रोकने में काफी हद तक सफल रहे हैं, सीमा-पार यात्रा फिर से शुरू कर सकते हैं।

पर्यटन उद्योग, जो अंतरराष्ट्रीय आदान-प्रदान पर अत्यधिक निर्भर करता है, एक आमूल परिवर्तन का गवाह बनेगा। महामारी ने पर्यटन क्षेत्र को कड़ी टक्कर दी है जबकि वैश्वीकरण संरचनात्मक परिवर्तनों से गुजर रहा है। वैश्विक यात्रा उद्योग को दूसरे विश्व युद्ध के अंत के बाद से सबसे कठिन चुनौतियों से उबरने के लिए अभिनव साधनों का उपयोग करने की आवश्यकता है।

आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, लिंक्डिन और टेलीग्राम  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

More from सोशल हलचलMore posts in सोशल हलचल »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *