Press "Enter" to skip to content

नजरिया / खुशियों की तलाश में न रहें, खुशी को अभिव्यक्त करें

खुश रहना हर कोई चाहता है, लेकिन क्या आपके पास कुछ ऐसे नियम हैं जिन्हें आप एक चेकलिस्ट की तरह इस्तेमाल कर खुद में बदलाव ला सकते हैं? सद्‌गुरु जग्गी वासुदेव बताते हैं कि जब आप अपने स्वभाव से खुश होते हैं, तो आप जो भी करेंगे, वह बिल्कुल अलग स्तर पर होगा।

अभिव्यक्त करें, पाने की कोशिश न करें…

आज हम इतने जोरशोर से खुशी की तलाश कर रहे हैं कि धरती का जीवन ही खतरे में पड़ गया है। खुशी की तलाश में न रहें। दुनिया में अपनी खुशी को अभिव्यक्त करना जानें। अगर आप मुड़कर अपने जीवन को देखें तो आपके जीवन के सबसे खूबसूरत पल वे थे जब आप अपनी खुशी को अभिव्यक्त कर रहे थे, न कि जब आप उसकी तलाश कर रहे थे।

जो आप बचाते हैं, वह कभी आपका गुण नहीं होगा। जो आप फैलाते हैं, जो आप बिखेरते हैं, वह आपका गुण होगा। अगर आप अपनी खुशी को बचा-बचा कर रखेंगे, तो जीवन के अंत में कोई ऐसा नहीं कहेगा, ‘उसने अपने अंदर खुशी का एक-एक अंश बचा कर रखा, वह बहुत खुशी के साथ मरा।’ वे कहेंगे, ‘यह भयानक प्राणी अपनी जिंदगी में कभी मुस्कुराया तक नहीं।’ लेकिन अगर आप हर दिन अपनी खुशी और प्यार को फैलाएंगे, तो लोग कहेंगे, ‘अरे वह एक खुशमिजाज और प्यार करने वाला इंसान था।’

मुस्कुराइए

सुबह जब आप उठते हैं, तो पहली चीज आपको यह करनी चाहिए कि आप मुस्कुराएं। किस पर? किसी पर नहीं। क्योंकि आप जागे, यह कोई छोटी बात नहीं है। लाखों लोग जो कल रात सोए थे, आज नहीं उठे, मगर आप और मैं उठे। क्या यह बहुत बढ़िया बात नहीं है कि आप जागे? इसलिए अपने जगने

पर मुस्कुराइए। इसके बाद आस-पास देखिए और अगर कोई है, तो उन्हें देख कर मुस्कुराइए। बहुत सारे लोगों के साथ ऐसा हुआ कि उनका कोई प्रियजन आज सुबह नहीं जगा। आपको जो भी लोग प्यारे हैं, वे जगे। वाह! यह तो बहुत अच्छा दिन है, है न ? फिर बाहर जाइए और पेड़ों को देखिए। वे भी पिछली रात को नष्ट नहीं हुए।

यह भी पढ़ें : मुमकिन है / जब आप खुश होंगे, तभी आएगीं दूसरी संभावनाएं

बहुत से लोगों को यह अजीब लग सकता है, मगर आपको इसका महत्व तब पता चलेगा, जब आपका कोई प्रियजन सुबह नहीं उठेगा। इसका महत्व जानने के लिए तब तक का इंतजार न करें। यह कोई अजीब या हसने वाली बात नहीं है, यह सबसे कीमती चीज है कि आप जीवित हैं और जो भी आपके लिए मायने रखता है, वह जीवित है। इस दुर्भाग्यपूर्ण रात जब इतने सारे लोग नहीं उठे और कितने सारे लोगों के प्रियजन नहीं उठे, तब आप और आपके प्रियजन उठ पाए, क्या यह शानदार चीज नहीं है? इसका महत्व समझें और कम से कम मुस्कुराएं। कुछ लोगों को प्यार से देखना सीखें।

खुद को याद दिलाएं

बहुत से लोगों को यह सब भूलने में बस घंटा भर लगता है और जल्दी ही उनका रेंगने वाला दिमाग किसी को काटने के लिए आतुर हो जाता है। इसलिए हर घंटे खुद को एक खुराक दें जीवन की अहमियत याद दिलाएं। अगर आप बहुत ही संवेदनहीन हैं, तो हर आधे घंटे में खुद को याद दिलाएं। अगर आप भीषण रूप से संवेदनहीन हैं, तो खुद को हर पांच मिनट पर याद दिलाएं। अपने आप को याद दिलाने में बस दस सेकेंड लगते हैं। आप इसे बस दो सेकेंड में भी कर सकते हैं ‘मैं जीवित हूं, तुम जीवित हो। और क्या चाहिए?’

जो अंदर है, उसे बदलें

वर्तमान में, आपके जीवन की गुणवत्ता उन कपड़ों से तय नहीं होती, जो आप पहनते हैं। वह आपकी शैक्षिक योग्यताओं, आपकी परिवार की स्थिति या आपके बैंक बैलेंस से तय नहीं होती। आपके जीवन की गुणवत्ता इस पर निर्भर करती है कि आप अपने भीतर कितने शांत और खुश हैं।

यह भी पढ़ें : रिपोर्ट / मोदी है तो मुमकिन है? फरवरी में भारत की बेरोजगारी दर बढ़कर 7.2% हुई

निश्चित रूप से जिसे भोजन नहीं मिलता और जिसके पास जीवित रहने के लिए जरूरी बुनियादी चीजों की कमी है, वह शारीरिक रूप से बहुत कष्ट में होगा। इस पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है। ऐसे लोगों के लिए हमें उन बुनियादी चीजों की व्यवस्था करनी होगी। मगर बाकियों के लिए, उनकी जरूरतें एक अंतहीन सूची है। आपको लगता है कि कार चला रहा आदमी सड़क पर पैदल चल रहे आदमी से ज्यादा खुश है? नहीं। आपके पास क्या है, उससे यह तय नहीं होता। यह इस पर निर्भर करता है कि वे उस समय कैसा महसूस कर रहे हैं।

दूसरों से तुलना करना छोड़ दें

ज्यादातर लोग इसलिए दुखी नहीं होते क्योंकि उनके पास किसी चीज की कमी होती है। वे दुखी इसलिए होते हैं क्योंकि वे खुद की तुलना किसी और से करते हैं। आप एक मोटरबाइक चला रहे हैं, आप किसी को मर्सिडीज चलाते देखते हैं और खुद को दुखी कर लेते हैं। साइकिल पर चलने वाला कोई व्यक्ति

आपको मोटरबाइक पर देखता है और यह उसके लिए लिमोसीन है। पैदल चलता कोई व्यक्ति साइकिल को देखकर सोचता है, ‘अरे वाह, अगर मेरे पास सिर्फ यह साइकिल होती, तो मैं अपनी जिंदगी में क्या-क्या कर लेता।’ यह एक बेवकूफाना खेल है जो चलता रहता है।

जो लोग खुश रहने के लिए बाहरी हालात पर निर्भर रहते हैं, वे कभी अपनी जिंदगी में सच्ची खुशी नहीं महसूस कर पाएंगे। निश्चित रूप से अब समय है कि हम अपने अंदर झांकें और देखें कि हम किस तरह खुशहाली में रह सकते हैं। जीवन के अपने अनुभव से आप साफ-साफ देख सकते हैं कि सच्ची खुशी आपको तभी मिलती है, जब आपके अंतर्मन में बदलाव आता है। जब आप खुश होने के लिए बाहरी स्थितियों पर निर्भर होते हैं, तो आपको समझना चाहिए कि बाहरी हालात कभी भी सौ फीसदी आपके अनुकूल नहीं होते।

यह भी पढ़ें : स्कॉलरशिप / न्यूजीलैंड में करना चाहते हैं पढ़ाई तो ये है वो सुनहरा मौका

जब यह हकीकत है, तो कम से कम इस एक इंसान यानि कि आप को उस तरह रहना चाहिए, जैसे आप रहना चाहते हैं। अगर आप अपने अंदर उस तरह होते हैं, जिस रूप में आप खुद को रखना चाहते हैं, तो आप कुदरती तौर पर खुश होंगे। यह कोई ऐसी चीज नहीं है, जिसे आपको खोजना पड़े। अगर आप अपनी मूल प्रकृति में वापस चले जाते हैं, तो आप सिर्फ खुश ही रहेंगे।

(आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, लिंक्डिन और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

More from अध्यात्मMore posts in अध्यात्म »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *