Press "Enter" to skip to content

पवित्रता / क्या जीवन में कुछ पवित्र है, यदि ‘हां’ तो वो क्या है?

प्रतीकात्मक चित्र : जीवन में पवित्रतता।

  • जे. कृष्णमूर्ति, आध्यात्मिक गुरु।

क्या जीवन में कुछ पवित्र है? यह विचार या कहें प्रश्न आविष्कार द्वारा नहीं बनाया गया है, क्योंकि मनुष्य, अनंत काल से, हमेशा यह प्रश्न पूछता आया है। क्या इस भ्रम, दुख, अंधकार, भ्रम से परे, संस्थानों और सुधारों से परे कुछ है। क्या वास्तव में कुछ सच है, कुछ समय से परे है, कुछ इतना विशाल है कि विचार उस तक नहीं आ सकता?

मनुष्य ने इस बारे में सदियों से पूछताछ की है और केवल स्पष्ट रूप से बहुत कम लोग ही उस दुनिया में प्रवेश करने के लिए स्वतंत्र हुए हैं। प्राचीन काल से पुजारी, साधक के बीच में आता है और जिसे वह खोजने की आशा कर रहा है। वह व्याख्या करता है, वह व्यक्ति बन जाता है जो जानता है, या सोचता है कि वह सब कुछ जानता है। और वह पथभ्रष्ट होकर कहीं खो जाता है।

तो अगर हम उस चीज की जांच करना चाहते हैं जो सबसे पवित्र है, जो कि नामहीन, कालातीत है, तो स्पष्ट रूप से किसी भी समूह से संबंधित नहीं होना चाहिए, कोई धर्म नहीं है, कोई विश्वास नहीं है, क्योंकि विश्वास कुछ ऐसा सच स्वीकार कर रहा है जो नहीं करता है या मौजूद नहीं हो सकता है। यही विश्वास की प्रकृति है।

किसी बात को सच मान लेना यानी जब आपकी अपनी जांच, जीवन शक्ति, ऊर्जा का पता नहीं चले, तो आप विश्वास करते हैं। क्योंकि विश्वास में सुरक्षा, आराम का कोई न कोई रूप होता है। लेकिन जो व्यक्ति केवल मनोवैज्ञानिक आराम की तलाश में है, ऐसा व्यक्ति इन बातों में नहीं आएगा जो समय से परे है। ऐसे में पूर्ण स्वतंत्रता होनी चाहिए। क्या यह संभव है?

यह स्वाभाविक है, लेकिन मनोवैज्ञानिक तौर पर नफरत, विरोध, अभिमान, सभी चीजें जो भ्रम पैदा करती हैं, जो कि स्वयं की प्रकृति है जो इस पर सोचा गया है? और इसे जानने के लिए ध्यान होना चाहिए, एकाग्रता नहीं। ध्यान शब्द को पश्चिमी दुनिया में हाल ही में कुछ ऐसे लोगों द्वारा पेश किया गया है जिन्होंने कुछ मानदंडों, ध्यान के कुछ पैटर्न को स्वीकार कर लिया है।

ज़ेन ध्यान है, यह ध्यान का तिब्बती रूप है जो बौद्ध ध्यान के दक्षिणी रूप से अलग है, हिंदुओं का ध्यान उनके विशेष गुरुओं के साथ है, जिनके पास फिर से ध्यान के अपने रूप हैं। फिर ईसाई रूप है, जो चिंतन है और उस शब्द का अर्थ, ध्यान, तात्पर्य है, उस शब्द का अर्थ है ‘विचार करना’ और साथ ही, एक ध्यानपूर्ण मन को माप से मुक्त होना चाहिए।

तो वे सभी लोग जो इस शब्द को लाए हैं, अपनी प्रणालियों, विधियों और प्रथाओं के साथ, फिर से सावधानीपूर्वक विचार करके एक साथ रखा गया है। शायद एक गुरु या दो उन एशियाई पक्षियों को किसी तरह का अनुभव हो, तुरंत इसका अनुवाद किसी प्रकार की आध्यात्मिक स्थिति में किया जाता है, और उनका ध्यान होता है।

इसलिए हमें यह जानना चाहिए कि ध्यान क्या है। यह वास्तव में महत्वपूर्ण है, क्योंकि एक मन जो केवल यंत्रवत है, जैसा कि सोचा है, उस पर कभी नहीं आ सकता है जो पूरी तरह से सर्वोच्च आदेश है, और इसलिए पूर्ण स्वतंत्रता है। जैसे ब्रह्मांड क्रम में है यह केवल मानव मन है जो विकार में है और इसलिए व्यक्ति के पास एक असाधारण रूप से व्यवस्थित मन होना चाहिए, एक ऐसा मन जो अव्यवस्था को समझ चुका हो, हम उस दिन उस में चले गए और पूरी तरह से विकार से मुक्त हो, जो कि विरोधाभास, नकल, अनुरूपता, और बाकी सब कुछ है।

ऐसा मन एक चौकस मन है, जो कुछ भी करता है, उसके सभी कार्यों, संबंधों में, इत्यादि के लिए पूरी तरह से चौकस है। ध्यान एकाग्रता नहीं है। एकाग्रता सीमित, संकीर्ण है, जबकि ध्यान असीमित है। उस ध्यान में मौन का वह गुण है जो न तो विचार द्वारा आविष्कार किया गया मौन है, और ना वह मौन, जो शोर के बाद आता है, ना कि एक विचार का मौन दूसरे विचार की प्रतीक्षा में। वह मौन होना चाहिए जो इच्छा से, इच्छा से, विचार से एक साथ न हो। और उस ध्यान में कोई नियंत्रक नहीं है।

यह सभी तथाकथित ध्यान समूहों और उनके द्वारा आविष्कार की गई प्रणालियों में से एक कारक है, जोकि हमेशा प्रयास, नियंत्रण, अनुशासन होता है। अनुशासन का अर्थ है सीखना, उसके अनुरूप न होना, सीखना ताकि आपका मन अधिक से अधिक सूक्ष्म हो जाए, ज्ञान पर आधारित ना हो, सीखना एक निरंतर गति है। तो ध्यान ज्ञात से मुक्ति है, जो उपाय है और उस ध्यान में परम मौन है। फिर उसी सन्नाटे में, जो नामहीन है, यह वही है।

साभार : जे कृष्णमूर्ति, ऑस्ट्रेलिया।

आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंक्डिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

More from अध्यात्मMore posts in अध्यात्म »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *