Press "Enter" to skip to content

दिनचर्या / अध्यात्म के मार्ग पर ऐसे रखें स्वास्थ्य का ख्याल

अध्यात्म जीवन का अर्थ जानने की प्रक्रिया है, इसके जरिए  जिंदगी में भीतरी शांति स्थापित करने में मदद मिलती है। अध्यात्म मार्ग पर चलकर, संगीत के द्वारा या फिर प्रकृति में रहकर आंतरिक मन द्वारा महसूस किया जा सकता है।

दरअसल, अध्यात्म काफी हद तक किसी भी मनुष्य के स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डालता है। यह अध्यात्म ही है जो तन, मन और आत्मा को एक दूसरे से जोड़े रखता है और जब इनमें संतुलन बिगड़ने लगता है तो सेहत खराब हो जाती है। रिसर्च में यह साबित हो चुका है कि सकारात्मक सोच, धर्म से मिलने वाली आंतरिक शक्ति, ध्यान, प्रार्थना, करुणा और सहजता ये सभीअध्यात्म के जरिए हासिल की जा सकती है, जिसके जरिए स्वास्थ्य बेहतर और शांत बना रहता है। अध्यात्म में वो शक्ति है जो तनाव, अवसाद और कई तरह की बीमारियों से लड़ने की आंतरिक ताकत शरीर को देती है।

आध्यात्मिक व्यक्ति के अंतः मन में आंतिरिक शांति, शक्ति, प्रेम, करुणा का समावेश स्वतः होने लगता है, लेकिन यह सब कुछ तभी होगा जब आध्यात्मिक बने रहे, जिसके लिए आध्यात्मिक पुस्तकों का अध्ययन करें, इंटरनेट पर मौजूद आध्यात्मिक ब्लॉग का अध्ययन करें। आप दुनिया के जिस भी धर्म को मानते हैं, वहां जाकर ईश्वर का ध्यान करें। यदि ऐसा करते हैं तो आध्यात्मिक शक्ति में बृद्धि अपने आप होने लगेगी जिसके जरिए आपका स्वास्थ्य तो बेहतर होगा ही साथ ही आप अपने अंतः मन से खुद को तरोताजा महसूस करेंगे।

ध्यान रखें यदि आप किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं तो आयुर्वेद और डॉक्टर की सलाह अवश्य लीजिए। आध्यात्मिक शक्ति आपके अंदर रोगों से लड़ने की क्षमता दो गुनी कर देती है, तो वहीं डॉक्टरी इलाज आपको जल्द बेहतर बना सकता है।

More from अध्यात्मMore posts in अध्यात्म »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *