Press "Enter" to skip to content

अभिव्यक्ति / क्या पुरुषों को महिलाओं के लिए स्वतंत्रता देनी चाहिए?

आध्यात्मिकता कोई नैतिक विज्ञान नहीं है। आध्यात्मिकता उस जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए होती है, जो आप हैं। भारतीय आध्यात्मिकता, हमेशा ऐसे पुरुषों और महिलाओं का एक समृद्ध मिश्रण रही है, जो अपनी चेतना के शिखर पर पहुंचे थे। जब मनुष्य के आंतरिक स्वभाव की बात होती है तो महिलाओं में भी उतनी ही योग्यता है, जितनी पुरुषों में। यह तो आपका बाहरी हिस्सा, यानि शरीर है जिसे आप पुरुष या महिला कहते हैं। जो चीज़ भीतर है, वो एक ही है। बाहरी हिस्सा यह बिल्कुल भी तय नहीं करता कि किसी की आध्यात्मिक योग्यता क्या है।

सदगुरु बताते हैं प्राचीन काल में महिलाएं भी यज्ञोपवीत (जनेऊ) धारण करतीं थीं क्योंकि इसे पहने बिना वे शास्त्र नहीं पढ़ सकतीं थीं। पुरुषों की तरह महिलाएं भी 10 से 20 वर्ष विवाहित रहतीं थीं और फिर, यदि उन्हें आध्यात्मिक होने की गहरी इच्छा होती थी तो वे भी परिवार का त्याग कर सकतीं थीं। लेकिन जब दुष्ट, अत्याचारी लोगों ने भारत पर हमले करने शुरू किए तो धीरे धीरे स्त्रियों की स्वतंत्रता समाप्त हो गई। पारम्परिक नियम बदलने लगे।

शायद कुछ समय के लिए यह जरूरी भी था क्योंकि उस समय की परिस्थितियों के अनुसार महिलाओं की अपनी सुरक्षा के लिए, उन पर कुछ बंधन लगाना आवश्यक हो गया। लेकिन, दुर्भाग्यवश, यह कायदा ही बन गया। महिलाओं के लिए सबसे पहली गलत बात यह हुई कि यह घोषित किया गया कि वे यज्ञोपवीत नहीं पहन सकतीं। फिर यह भी कहा गया कि महिलाओं को मुक्ति केवल अपने पति की सेवा करने से ही मिल सकती है। यह तय किया गया कि केवल पुरुष ही परिवार का त्याग कर सकेंगे।

यदि एक स्त्री जिसमें से पुरुष जन्म लेता है हीन है, तो फिर पुरुष श्रेष्ठ कैसे हो सकता है? इसकी कोई सम्भावना ही नहीं है। ये समस्या सारे विश्व में है। ये सिर्फ एक गलत व्यक्ति के विचार नहीं हैं। ये अब पुरुषों की जीवन पद्धति ही हो गयी है, और उनके धर्म और संस्कृति का एक हिस्सा भी। दुर्भाग्य से, ये चीज़ें कभी-कभी आज भी होती दिखतीं हैं। स्त्री को बताया जाता है कि उसका जन्म सिर्फ पिता या पति की सेवा करने के लिये ही हुआ है।

लोग अस्तित्व के अद्वैत रूप की चर्चा करते हैं और फिर भी कहते हैं, ‘हर एक वस्तु एक ही है, पर महिलाएं कम हैं’। यह जानते हुए कि पुरुष का अस्तित्व स्त्री पर निर्भर करता है, यदि वह एक स्त्री को समान स्तर पर स्वीकार नहीं करता तो उसके लिए अस्तित्व के अद्वैत रूप को स्वीकार कर सकने का प्रश्न ही नहीं उठता।

हीनता या श्रेष्ठता का प्रश्न सिर्फ एक पूर्वधारणाओं से भरे मन में ही उठ सकता है। यह सिर्फ दो गुणों की बात है। यदि एक स्त्री जिसमें से पुरुष उत्पन्न होता है हीन है, तो फिर पुरुष श्रेष्ठ कैसे हो सकता है? इसकी कोई सम्भावना ही नहीं है। ये समस्या सारे विश्व में है। ये सिर्फ एक गलत व्यक्ति के विचार नहीं हैं। ये अब पुरुषों की जीवन पद्धति ही हो गई है, और उनके धर्म और संस्कृति का एक हिस्सा भी।

एक बार एक समाज सुधारक स्वामी विवेकानंद के पास गया और कहा, यह अच्छी बात है कि आप भी महिलाओं का समर्थन करते हैं, उनकी सहायता करते हैं। ये बताईए, मैं क्या करूं, मैं भी उनका सुधार करना चाहता हूं। मैं इसमें मदद करना चाहता हूं।’ तब विवेकानंद ने कहा, ‘उनसे दूर रहो। तुम्हें उनके लिए कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। उन्हें अकेला छोड़ दो। उनको जो करना है वो स्वयं कर लेंगी। तो बस यही करने की जरूरत है। पुरुषों को महिलाओं का सुधार करने की आवश्यकता नहीं है। वो बस उन्हें स्वतंत्रता दें तो वे वह सब कर लेंगीं जो आवश्यक है।

More from अध्यात्मMore posts in अध्यात्म »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *