Press "Enter" to skip to content

चुनाव / बिजनेस या जॉब में हम क्या चुनें ? ज्यादा ‘सैलरी’ या फिर मजेदार ‘काम’

अपने लिए कोई कामकाज, कोई नौकरी ढूंढने में वेतन कितना महत्वपूर्ण है, इस प्रश्न का उत्तर देते हुए सद्‌गुरु जग्गी वासुदेव बताते हैं कि हमें अपनी गतिविधि की कीमत कैसे आंकनी चाहिए?

आप खुद से पूछें मेरे पास चुनने के लिए एक ऊंचे वेतन वाली नौकरी है और दूसरी तरफ वो काम है जो मुझे वास्तव में पसंद है पर जहां वेतन ज्यादा नहीं है। तो इन दोनों में मैं किसे चुनूं?

तब आप यह ध्यान रखें कि आप की कीमत क्या है यह सिर्फ इस दृष्टि से नही आंकना चाहिए कि आप कितना कमा रहे हैं। आप को क्या जिम्मेदारी दी गई है, इस दृष्टि से इसका आकलन होना चाहिए। आप कितना कमा रहे हैं, यह विशेष बात नहीं है। विशेष बात यह है कि आप को कुछ नया बनाने, निर्माण करने की स्वतंत्रता है।

धन हमारे जीवन का साधन है। इस दृष्टि से आवश्यक है, लेकिन आप को अपना मूल्यांकन हमेशा इस दृष्टि से करना चाहिए कि आप को क्या करने के लिए कहा गया है, किस स्तर की जिम्मेदारी आप को दी जा रही है? कुछ खास, कुछ ऐसा जो वास्तविक रुप से कीमती है, स्वयं अपने लिए और अपने आसपास के सभी लोगों के लिए निर्माण करने का कितना अवसर आप को उपलब्ध है?

तो क्या आप ऐसी फिल्म बनाना चाहेंगे

इस संसार में आप जो कुछ भी काम करते हैं वह सही रूप से तभी कुछ विशेष है, जब आप अन्य लोगों के जीवन पर गहराई से कुछ अच्छा असर डालते हैं। उदाहरण के लिये, अगर आप एक फिल्म बना रहे हैं तो क्या आप ऐसी फिल्म बनाना चाहेंगे जो कोई देखना ही न चाहे? क्या आप ऐसा मकान बनाना चाहेंगे, जिसमें कोई रहना ही न चाहे? आप ऐसा कुछ भी बनाना नहीं चाहेंगे जिसका कोई दूसरा उपयोग ही न करना चाहे क्योंकि किसी न किसी अर्थ में आप दूसरों के लिये कुछ अच्छा करना चाहते हैं।

‘हर व्यक्ति किसी वस्तु का उत्पादक या व्यापारी होता था। लेकिन जब हम हजारों लोगों की इच्छा शक्ति को एक ही दिशा में मिल कर उपयोग में लाते हैं तो वह एक ऐसा नियम होता है जो कुछ बड़ा हासिल करना चाहता है।’

यदि आप ध्यानपूर्वक देखें तो आप को ऐसा काम करना चाहते हैं जिससे लोगों के जीवन पर अच्छा असर पड़े। कई लोग अपना जीवन कामकाज और परिवार के बीच बांट लेते हैं, उनके लिये कामकाज सिर्फ धन कमाने के लिये है और परिवार ऐसी जगह है जहां वे दूसरों के जीवन को छूते हैं, उन पर असर डालते हैं, लेकिन यह भाग सिर्फ परिवार तक सीमित नहीं रहना चाहिए। यह जीवन के प्रत्येक भाग के लिये होना चाहिेए। आप कुछ भी करें, उससे लोगों के जीवन पर अच्छा असर पड़ना चाहिये, यही सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।

Feature Podcast : बिजनेस या जॉब में हम क्या चुनें ? ज्यादा ‘सैलरी’ या फिर मजेदार ‘काम’

आप कितनी गहराई से दूसरों के जीवन को छूते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप जो कुछ कर रहे हैं, उसमें किस हद तक आप की भागीदारी है। अगर आप अंदर तक गहरे उतरे हैं तो स्वाभाविक रूप से आप जिस तरह से काम करते हैं, वह अलग ही होगा और आप को आप की योग्यता के अनुसार पैसा मिलेगा। कभी-कभी आप को कुछ मोलभाव करना पड़ सकता है और वेतनवृद्धि के लिए मांग भी करनी पड़ सकती है, शायद आप की कंपनी को इस बारे में आप को याद भी दिलाना पड़ सकता है पर सामान्य रूप से यदि लोग समझते हों कि उस विशेष कारोबार या कंपनी के लिये आप की क्या कीमत है तो वे आप को उसके अनुसार सैलरी देंगे।

‘आप को अपनी कीमत हमेशा उस जिम्मेदारी की दृष्टि से आंकनी चाहिए जो लोग आप को देने को तैयार हैं और, जो आप बना रहे हैं, क्या वह आप के लिए और दूसरों के लिये वाकई कीमती, महत्वपूर्ण है?’

आप जो कर रहे हैं, उसमें अगर आप तरक्की करते हैं तो किसी समय पर, जब जरूरी हो तो आप एक स्थान को छोड़ कर दूसरे पर जा सकते हैं और आप को मिलने वाला पैसा दस गुना भी बढ़ सकता है। जैसे, मान लीजिए, आप एक कम्पनी के प्रमुख हैं और किसी कारण से वे आप को पर्याप्त पैसा नहीं दे रहे, लेकिन उन्होंने आप को कंपनी चलाने की पूरी जिम्मेदारी सौंप रखी है। अब, अगर आप बढ़िया काम कर रहे हैं और दुनिया देख रही है तो कल कोई भी आप को किसी भी कीमत पर लेने को तैयार होगा। तो यह जरूरी नहीं है कि आप की कीमत को हमेशा पैसे की दृष्टि से ही आंका जाए।

कंपनियां ही क्यों ?

लोग बड़ी कंपनी, बड़े निगम इसलिए बनाते हैं क्यों कि हम मिल कर वो कर सकते हैं, जो व्यक्तिगत रूप से नहीं कर सकते। हम सभी व्यक्तिगत उद्यमियों के रूप में काम कर सकते थे और हम लंबे समय से इसी रूप में काम करते रहे हैं। हर व्यक्ति किसी वस्तु का उत्पादक या व्यापारी होता था। लेकिन जब हम हजारों लोगों की इच्छा शक्ति को एक ही दिशा में मिल कर उपयोग में लाते हैं तो वह एक ऐसा नियम होता है जो कुछ बड़ा हासिल करना चाहता है।

‘आप कितनी गहराई से दूसरों के जीवन को छूते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप जो कुछ कर रहे हैं, उसमें किस हद तक आप की भागीदारी है। अगर आप अंदर तक गहरे उतरे हैं तो स्वाभाविक रूप से आप जिस तरह से काम करते हैं, वह अलग ही होगा और आप को आप की योग्यता के अनुसार पैसा मिलेगा।’

इस कंपनी में आप को जो जिम्मेदारी दी गई है, आप में जो विश्वास दिखाया गया है उसका स्तर ही वास्तव में आप की कीमत तय करता है। आप इसमें से किस हद तक धन कमाते हैं वह महत्वपूर्ण है लेकिन यही सब कुछ नहीं है। आप को अपनी कीमत हमेशा उस जिम्मेदारी की दृष्टि से आंकनी चाहिए जो लोग आप को देने को तैयार हैं और, जो आप बना रहे हैं, क्या वह आप के लिए और दूसरों के लिये वाकई कीमती, महत्वपूर्ण है?

More from अध्यात्मMore posts in अध्यात्म »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *