Press "Enter" to skip to content

स्वरूप / शांत और सौम्य क्यों नहीं है मां काली का रूप, यहां जानें

भारत में, कई तरह के देवता और विशेष रूप से देवियां रचीं गई हैं। कुछ योगियों और रहस्यवादियों ने कुछ खास मकसद को पूरा करने के लिए कुछ निश्चित रूप गढ़े। इनमें से कुछ रूप बहुत ही सुखद, कुछ भयंकर और कुछ बहुत जीवंत हैं। ये विभिन्न प्रकार के रूप, आपके जीवन में अलग-अलग आयामों को पूरा करने के लिए हैं।

इसे एक उदाहरण से समझा जा सकता है। जैसे शिक्षा के क्षेत्र में आज कई तरह की शाखाएं हैं, जबकि एक समय था जब शिक्षा का मतलब था कि हर इंसान वह सब कुछ सीख लेता था, जो सीखने योग्य था।

हालांकि, आजकल लोग अलग-अलग क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल करते हैं। इसी तरह, इन योगियों ने कई अलग तरह से ऊर्जा की स्थापना की ताकि लोगों को अपने जीवन के अलग-अलग आयामों के लिए अलग-अलग रूप मिल सकें। उन्होंने एक पूरा सिस्टम बनाया जिससे इन रूपों का आसानी से इस्तेमाल किया जा सके।

सदगुरु जग्गी वासुदेव बताते हैं कि ऐसा ही विज्ञान दक्षिण अमेरिका में भी है, परंतु उनके रूप थोड़े अनगढ़ या अपरिष्कृत हैं। उन्होंने आमतौर पर पशुओं के आकार गढ़े हैं, जो शक्ति हासिल करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। परंतु भारतीय संस्कृति में, बहुत ही परिष्कृत रूप रचे गए। अगर आपके पास मास्टरी है तो आप उन्हें जगा सकते हैं और उससे अद्भुत काम करवा सकते हैं।

मां काली एक उग्र रूप हैं। आपको इस तरह की महिला को संभालने के लिए अलग तरह का कौशल चाहिए। दूसरे रूपों की तुलना में, इन तक पहुंचना आसान है, लेकिन साथ ही, वे बहुत तेज तर्रार हैं। अगर आप किसी उग्र रूप को बुलाने के बाद, उसे संभालना नहीं जानते, तो वह आपको मिटा भी सकता है। कुछ और रूप इनसे भी ज्यादा भयंकर और उग्र हैं। योगियों ने ये भयंकर रूप इसलिए बनाए क्योंकि वे खुद इसी स्वभाव के थे और वे किसी सौम्य स्त्री के साथ नहीं रह सकते थे। उन्हें कोई ऐसा चाहिए था जो तेज-तर्रार व उग्र हो।

ये रूप एक खास तरह की प्रक्रियाओं को रिस्पांड करते हैं, जो उस तरह की ऊर्जा को अपनी ओर खींचते हैं। काली कोई एक मूर्ति नहीं जिस पर आप विश्वास कर सकें। वे आपके लिए एक जीती-जाती हकीकत बन सकती हैं। वे आपके सामने प्रकट हो सकती हैं क्योंकि जब एक बार ऊर्जा शरीर बन जाता है तो उसके साथ ही आप चाहें तो एक भौतिक देह भी रच सकते हैं।

उदाहरण के लिए, ध्यानलिंग सबसे ऊंचे स्तर का ऊर्जा शरीर है। वैसे तो इसके लिए भौतिक शरीर भी बनाया जा सकता है, लेकिन इसमें बहुत मेहनत करनी होगी और वह भी किसी काम की नहीं होगी। एक और इंसान बनाने का क्या तुक है? अभी आप मुझे मेरे असली रूप में अनुभव इसलिए नहीं कर पा रहे क्योंकि मैं भौतिक शरीर में हूं। मैं आपकी तरह बोलता हूं, सारे काम करता हूं। अगर मैं किसी और रूप में होता, तो लोगों के लिए थोड़ी आसानी होती। जब आप किसी इंसान को देखते हैं तो उसे अपने तार्किक ढांचे में फिट करने की कोशिश करते हैं। अगर वह फिट न आए तो आप उसे आत्मज्ञानी नहीं मानते। आपको लगेगा कि वह पागल है। तो ऐसा भौतिक शरीर बनाने का कोई फायदा नहीं है।

ध्यानलिंग में सारे आयाम शामिल हैं। लेकिन काली ऊर्जा का एक अलग आयाम है। योगियों ने इसे रचा और खुला छोड़ दिया। इसे कई स्थानों पर अलग-अलग तरह से मूर्त स्वरुप दिया गया है और कोई भी इससे जुड़ सकता है यह अस्तित्व में एक बेहद शक्तिशाली ताकत हैं।

एक केवल काली ही नहीं है। कई और हैं जो यौगिक परंपराओं से जुड़ी हैं। अक्सर हम लोगों के साथ उन स्थानों पर नहीं जाते क्योंकि अधिकतर लोगों को उसकी जरूरत नहीं है। जो लोग कुछ खास तरह के काम करना चाहते हैं, वे ही उन स्थानों पर जाते हैं। जो लोग केवल मोक्ष चाहते हों, उन्हें उन जगहों पर नहीं जाना चाहिए क्योंकि बहुत सारी उलझनें बढ़ जाएंगी। यह कुछ ऐसा होगा मानो आप खुद स्रष्टा बन्ने की कोशिश कर रहे हैं।

ऐसा नहीं है कि यह कुछ बुरा है पर यह कुछ ऐसा है मानो आप किसी ऐसे बच्चे को मैराथन में दौड़ाना चाहते हों, जिसने अभी-अभी चलना ही सीखा है। वह बच्चा निश्चित तौर खुद का नुकसान कर लेगा। जब आप किसी चीज के लिए तैयार न हों, तो एक अच्छी चीज की अधिकता भी आपके लिए बुरी हो सकती है।

Support quality journalism – Like our official Facebook page The Feature Times.

More from अध्यात्मMore posts in अध्यात्म »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *