Press "Enter" to skip to content

Mahatma Gandhi

चित्र : आयुष मंत्रालय में सचिव वैद्य राजेश कोटेचा (Twitter/@airdelhi) डॉ. वेदप्रताप वैदिक। आयुष मंत्रालय में सचिव राजेश कोटेचा ने बर्र के छत्ते में हाथ डाल दिया है। द्रमुक की नेता कनिमोझी ने मांग की है कि सरकार उन्हें तुरंत मुअत्तिल करे, क्योंकि उन्होंने कहा था कि जो उनका भाषण…
डॉ. वेदप्रताप वैदिक। भारत में उत्तरप्रदेश हिंदी का सबसे बड़ा गढ़ है लेकिन देखिए कि हिंदी की वहां कैसी दुर्दशा है। इस साल दसवीं और बारहवीं कक्षा के 23 लाख विद्यार्थियों में से लगभग 8 लाख विद्यार्थी हिंदी में अनुतीर्ण हो गए। डूब गए। जो पार लगे, उनमें से भी…
दुनिया में अपने प्रत्येक विचार, सिद्धांत, व्यवहार को किसी जन समूह के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने वाले संचारक के रूप में महात्मा गांधी को याद किया जाता है। आधुनिक सभ्यता की दृष्टि से उपजी मीडिया/पत्रकारिता को गांधीजी मनुष्य के लिए परिवर्तन का सबसे बड़ा माध्यम मानते थे। एक संचारक के…

विश्लेषण / सामाजिक विमर्श में क्यों जरूरी है ‘भारतीयता पर चर्चा’

हमारे सामाजिक विमर्श में इन दिनों भारतीयता और उसकी पहचान को लेकर बहुत बातचीत हो रही है। वर्तमान समय ‘भारतीय अस्मिता’ के जागरण का समय है। यह ‘भारतीयता के पुर्नजागरण’ का भी समय है। ‘हिंदु’ कहते ही उसे दूसरे पंथों के समकक्ष रख दिए जाने के खतरे के नाते, मैं…

हिंदी दिवस / हिंदी भाषा का ‘सम्मान सिर्फ एक दिन नहीं’ हमेशा कीजिए

हर साल की तरह, इस साल भी उन्हीं कुछ चुनिंदा शब्दों से हम हिंदी दिवस की शुभकामनाएं दे चुके हैं, और जल्द भूल जाएंगे! यह कोई नई बात नहीं है। हिंदी का सम्मान एक दिन का सालाना उत्सव नहीं बल्कि हिंदी भाषा की गरिमा का सम्मान किया जाना चाहिए। यह…

सलाह / कुछ इस तरह चुनें ‘रोल मॉडल’ ताकि जीने की राह हो जाए आसान

  सुरुचि अग्रवाल कौन हैं आखिर युवाओं के आदर्श? वो जो दर्शकों का मनोरंजन करते हैं या फिर वो जो खेल के मैदान में अपना जौहर दिखाते हैं या फिर वो जिन्होंने देश को आजादी दिलवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हम जब ये सवाल युवाओं से पूछें कि उनके आदर्श…

भविष्य / ऐसा संभव हुआ तो ‘महात्मा गांधी’ लेंगे फिर से जन्म!

संजीव शर्मा। भविष्य में इंसान यदि अपने आपको भगवान घोषित कर दे तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है, क्योंकि उसने अपनी नई और अनूठी खोजों से भगवान की सत्ता को ही सीधी चुनौती दे दी है। किराए की कोख और परखनली शिशु (टेस्ट ट्यूब बेबी) के बाद अब तो…

सलाह/ ‘विश्वास की शक्ति’ जाग्रत करने का सबसे आसान तरीका

जिंदगी की यात्रा में कई मोढ़ हैं, कई ठहराव हैं तो कई किनारे और हम इस कश्ती के नाविक हैं। यह बातें हमने बचपन से कई लोगों से कई तरह से सुनी हैं, लेकिन इन्हें अमल में कितने लोग लाते हैं? शायद बहुत कम लोग… गौर करने वाली बात यह…

सलाह / ‘आत्मबल’ के जरिए ऐसे पाएंं हर काम में सफलता

आत्मबल, जिसे अंग्रेजी में सेल्फ कॉन्फिडेंस कहते हैं। यह शारीरिक बल नहीं है, लेकिन शारीरिक बल से काफी शक्तिशाली होता है। रानी लक्ष्मीबाई, महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग, गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई में उतना अधिक शारीरिक बल नहीं होगा जितना कि आत्मबल। आत्मबल कैसे…

अनुभव / रखें इन बातों का ध्यान हर मुश्किल हो जाती है आसान

दुनिया में ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं है जिसको कभी समस्याओं का सामना नहीं करना पढ़ा हो, समस्याएं जितनी अधिक होंगी सफलता का सुख भी उतना खुशनुमा होगा, लेकिन यह तभी होगा जब आप सही दिशा में प्रयास करें। समस्याओं का डटकर सामना कैसे किया जाता है यह हमारे महापुरुषों…