Press "Enter" to skip to content

mind

इच्छा कभी आत्म ज्ञान की ओर नहीं ले जा सकती, लेकिन बिना इच्छा के कोई गति नहीं होती। इसका अर्थ है कि हमें बिना कोई इच्छा पैदा किये तीव्रता बनाए रखनी होगी। आपको समझना होगा कि यह आपकी इच्छा ही है जिसने भूत, वर्तमान और भविष्य जैसी चीजों को बनाया…
अगर आप यह आलेख नहीं पढ़ेंगे तो क्या आपको पता चल सकेगा कि यहां आपके लिए कुछ खास लिखा जा रहा है। जीवन का हर पहलू इसी तरह है यदि आप ध्यान नहीं देते हैं, तो आपको पता नहीं चलेगा कि आप क्या खा रहे हैं? कैसी सांस ले रहे…
अगर कोई इंसान आज भूखा है और उसकी किस्मत ऐसी है कि उसे दो दिन बाद खाना मिलेगा तो वह क्या करे? आम जिंदगी में हमेशा ऐसा ही होता है कि इंसान को किसी चीज की जरूरत आज है और उसे वह मिलती दो दिन के बाद है। हर कोई…

दर्शन / रमण महर्षि क्यों कहे जाते हैं नव-अद्वैत के प्रणेता!

रमण महर्षि की शिक्षाएं अमूमन नव-अद्वैत शिक्षकों के लिए प्रारंभिक बिंदु बनाती हैं, हालाकि, रामायण की शिक्षाओं की पृष्ठभूमि और पूर्ण दायरे को देखने के बजाय, केवल उनकी शिक्षाओं पर ही ध्यान केंद्रित किया जाता है जो सभी के लिए त्वरित प्राप्ति का वादा करती प्रतीत होती हैं। कुछ नव-अद्वैत…

दर्शन / जिंदगी जीने का सीधा रास्ता है अद्वैत, फिर ये भ्रांति क्यों?

अद्वैत यानी भारतीय सनातन संस्कृति का वो आधारभूत दर्शन जो सदियों पहले हमारे वेदों से प्रस्फुटित हुआ। अद्वैत अभ्यास के द्वारा स्वयं की गलत धारणाओं को हटाने का दर्शन है, विशेष रूप से हमारे सच्चे स्वभाव के बारे में वो गलत विचार जो शरीर और बाहरी दुनिया के साथ हमारी…

सूक्ष्मता / क्या है इंटरलॉक्ड त्रिकोण जो योग के इस रहस्य से उठाता है पर्दा

योग एक रहस्य की तरह है, इस रहस्य से आप पर्दा उठाते जाएंगे जानकारी के साथ मन की शांति और चेतना जागृत करने वाली शक्तियां आपके अंदर स्वतः समाहित होती जाएंगी। भारत ही नहीं दुनियाभर में योग के इन गुणों को लोग मानते हैं। इसी क्रम में 21, जून को…

भावनाएं / अहंकार का अर्थ ‘ईगो’ नहीं, यह आपकी पहचान है

अहंकार ईगो नहीं, स्वयं धारण की हुई पहचान है। मन के दूसरे आयाम को अहंकार कहा जाता है। इसका अर्थ उस पहचान से है, जो आपने धारण कर रखी है। आमतौर पर अंग्रेजी भाषा में लोग अहंकार को ‘ईगो’ समझ लेते हैं। यह ईगो नहीं है, यह आपकी पहचान है।…