Press "Enter" to skip to content

जीने की राह

प्रतीकात्मक चित्र। कोई भी इंसान अभी जैसा है, उससे अलग कुछ और बनने की चाहत में, वह इस जीवन के सरल तौर तरीके समझ नहीं पाता। यह जीवन, मन, सृष्टि, इन सभी के बीच का रिश्ता, यह सब कैसे घटित हो रहा है, इन सभी चीजों से वह पूरी तरह…
प्रतीकात्मक चित्र। कभी-कभी जब आप कोई काम करते हैं और आपका मन, जिसे हम इच्छा भी कहते हैं नहीं लगता है। तो ऐसे मे क्या करना चाहिए, ये एक ऐसा सवाल है जो बाद मे मन में जरूर आता है। लेकिन,बिना इच्छा के बड़ी तेजी के साथ किसी काम करने…
शादी क्या है, इसका क्या मतलब है, क्या ये ज़रूरी है, शादीशुदा ज़िंदगी कैसी होनी चाहिए? तो शादी कोई सामाजिक नुस्खा नहीं है बल्कि ये हर व्यक्ति की ज़रूरतों के हिसाब से और उसकी पसंद की बात होनी चाहिए। साथ साथ रहने के संबंध, तलाक और शादी की प्रक्रिया कैसी…

विवाह > 2 : सामाजिक स्तर पर, शादी का क्या है महत्व

हाइलाइट्स : शादी क्या है, इसका क्या मतलब है, क्या ये ज़रूरी है, शादीशुदा ज़िंदगी कैसी होनी चाहिए? अब तक आप ये समझ चुके होंगे, विवाह टेक्स्ट सीरीज की दूसरे क्रम जानेंगे शादी का क्या महत्व है और व्यक्तिगत स्तर पर यह क्यों जरूरी है। भारतीय परंपरा में शारीरिक नज़दीकियों…

विवाह > 3 : क्या ‘शादी से’ बेहतर कोई विकल्प है?

हाइलाइट्स : विवाह टेक्स्ट सीरीज के दूसरे क्रम में आपने जाना कि किस तरह आप शादी के महत्व को बरकरार रख सकते हैं और यदि शादी नहीं करना चाहते हैं तो इसका क्या विकल्प है। तीसरे क्रम में जानेंगे कि शादी का एक पहलू ये भी है कि हरेक मनुष्य…

विवाह > 4 : शादीशुदा ज़िंदगी जीने का ये है सबसे आसान तरीका

प्रतीकात्मक चित्र। हाइलाइट्स : विवाह टेक्स्ट सीरीज के तीसरे क्रम में आपने जाना कि ज़िंदगी में शादी क्यों जरूरी होती है। विवाह टेक्स्ट सीरीज के 4 क्रम में जानिए शादी के लिए सही व्यक्ति का चयन कैसे करना चाहिए। एकदम सही साथी पाने की कोशिश करने का मतलब है कि…

विवाह > 5 : शादी से पहले ‘जन्म कुंडली मिलाना’ क्या जरूरी है?

हाइलाइट्स : विवाह टेक्स्ट सीरीज के चौथे क्रम में जाना कि शादीशुदा जिंदगी को खुशनुमा रखने के आसान तरीके क्या हो सकते हैं। पांचवी सीरीज में जानें, जन्म पत्रिका विवाह में जरूरी है या नहीं। जब जन्म पत्रिकाएं मिलायी जाती हैं तो शायद ग्रहों की अनुकूलता देखी जा सकती है…

विवाह > 6 : शादीशुदा हैं, ‘तो पढ़ लीजिए ये 5 नियम’

प्रतीकात्मक चित्र। ये कितनी बेवकूफी भरी बात है कि कोई तीसरा आदमी, जिसे आप जानते भी नहीं हैं, आपको ये बताये कि आप अपने पति या अपनी पत्नी के साथ खुशी से रह सकेंगे या नहीं? विवाह टेक्स्ट सीरीज के पांचवे क्रम में आपने इस बारे में विस्तार से जाना,…

संभावना : नौकरशाही, ‘जिम्मेदारी बड़ी, कोशिश छोटी’

प्रतीकात्मक चित्र। भारत में नौकरशाही को लेकर एक आम राय बहुत सकरात्मक नहीं है। कई लोग इसे पैसे कमाने से जोड़ कर तो कई लोग इसे राजनीति से जोड़ कर देखते हैं। लेकिन इसका वास्तविक रूप क्या है? एक नौकरशाह की क्या चुनौतियां और क्या है उसकी जरुरतें? इस बारे…

सलाह : बिजनेस हो या लाइफ ‘सफलता के लिए’ ध्यान रखें ये 5 बातें

किसी काम को फिर से शुरू करना, एक नयी शुरुआत करना मुश्किल लगता है, पर ये पांच सलाह आपको एक अच्छी शुरुआत दे सकती हैं। छलांग लगाने से पहले अच्छी तरह देखें जब एक बार हमने नया जन्म लेने का निर्णय कर लिया हो, किसी चीज़ को पूरी तरह से…

उम्मीद : ज़िंदगी की अनिश्चितताएं ही सबसे बड़ी संभावनाएं हैं

प्रतीकात्मक चित्र। जीवन अनिश्चित है, लेकिन अनिश्चितता से घृणा नहीं करनी चाहिए। सद्गुरु बताते हैं कि अनिश्चितता से घृणा क्यों नहीं करना चाहिए। जब आप एक नई जगह में जाते हैं, तो अनिश्चितता होती है, लेकिन कई नई संभावनाएं भी सामने आती हैं। ये सच है की बाहरी दुनिया में…

समाधान : ज़िंदगी की चुनौतियों का सामना, कुछ इस तरह करें

प्रतीकात्मक चित्र। संत राजिन्दर सिंह, आध्यात्मिक गुरु। हम सभी ऐसे क्षणों का सामना करते हैं, जो ताकतवर से ताकतवर पुरुषों और स्त्रियों के लिए भी चुनौतीपूर्ण होते हैं। हो सकता है कि हमारे साथ कोई दुर्घटना हो जाए, जो हमें कमज़ोर या असहाय बना दे। हमारे बच्चे को कोई गंभीर…

इनसे सीखें : कैसे ‘ग्रीन इकोनॉमी’ से बना सकते हैं ‘वैश्विक पहचान’

जानकी अम्मा आज एक अवॉर्ड विनिंग कंपनी की डायरेक्टर हैं। तस्वीर : आरथी मेनन। आरथी मेनन, स्वतंत्र पत्रकार, मैसूर, कर्नाटक। दक्षिण भारत के आदिवासी समुदाय कुरुंबा से ताल्लुक रखने वाली 60 वर्ष की जानकी अम्मा, किसानों से संबंधित एक कंपनी की डायरेक्टर हैं। यह कंपनी प्रकृति आधारित खेती को बढ़ावा…

समाधान : क्रोध पर काबू करने का ये है सबसे आसान तरीका

प्रतीकात्मक चित्र। संत राजिन्दर सिंह, आध्यात्मिक गुरु। हमारे मन की शांति को सबसे बड़ा ख़तरा क्रोध से होता है। कार्यस्थल पर, हम पाते हैं कि हमें अमूमन अपने बॉस, अपने सहकर्मियों, या अपने अधीनस्थ कर्मचारियों पर गुस्सा आता रहता है। मुश्किल से ऐसा एक भी दिन गुज़रता होगा जब कार्यस्थल…

भविष्य : मन की शांति से आती है खुशी और स्वास्थ्य

दलाई लामा, बौद्ध आध्यात्मिक गुरु। हम सभी शांति से रहना चाहते हैं, जानवर भी शांति से रहना चाहते हैं। अगर आग लगती है तो कीड़े भी उससे बचने की कोशिश करते हैं। हालांकि, जो चीज़ मनुष्य को अलग बनाती है, वह है हमारा अद्भुत मस्तिष्क। हम यह सोचने में सक्षम…