Press "Enter" to skip to content

उड़ान

चित्र : पिंगली वेंकैया। पिंगली वेंकैया, यह नाम बहुत कम लोग जानते हैं, जो जानते हैं उन्हें यह भी जानना चाहिए कि, वह भू-विज्ञान, शिक्षा, कृषि और भाषाओं में रुचि रखने वाले एक विद्वान व्यक्ति थे। भारत को स्वतंत्रता सेनानी पिंगली वेंकैया ने राष्ट्रीय ध्वज को डिजाइन करके भारत को…
चित्र : कालजनी नदी पर ग्रामीणों द्वारा बनाया गया पुल। रविकांत द्विवेदी, लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और सामाजिक मुद्दों पर लिखते हैं। भारत में, ‘कूचबिहार’ पश्चिम बंगाल का एक जिला है। इसका मुख्यालय कूचबिहार है। विकास के दावे करने वाली टीएमसी हो या केंद्र सरकार आलम यह है कि यहां…
All photos courtesy: licypriya kangujam लिसिप्रिया कंगुजम यह नाम पढ़ने में भले ही आपको कठिन लगता हो, लेकिन इस नाम की 9 साल की लड़की ने वो कर दिखाया है, जो इंसान ताउम्र में नहीं कर पाता है। वो पर्यावरण कार्यकर्ता हैं। जब वो 7 साल की थीं तो उन्होंने…

पर्यावरण / प्लास्टिक से कई गुना बेहतर विकल्प है बांस की ये बोतल

प्लास्टिक एक हानिकारक तत्व है, जो मिट्टी में बहुत लंबे समय के बाद नष्ट होता है और इसे जलाया जाए तो ये वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार होता है। ऐसे में हमारे पास एक विकल्प मौजूद है कि हम प्लास्टिक से बनी पानी की बोतल की वजह क्यों न बांस…

इंटरव्यू / मोटिवेट रहने के लिए ‘परफेक्शन’ से कीजिए काम

अनारकली ऑफ आरा, शिप ऑफ़ थीसियस, बुद्धा इन ए ट्रैफिक जाम, द हॉली फिश, गुटर-गूं गुटर-गूं, शार्टकट सफारी, बेयरफूट टू गोवा संगीतकार रोहित शर्मा की वो फिल्म हैं, जहां उनका दिया हुआ संगीत सुना जा सकता है। दिल्ली से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के दौरान उन्होंने पं. हर्षवर्धन जी…

प्रयास / मोबाइल फोन के कैमरे से शूट की फिल्म,अमेज़न पर हुई रिलीज़

Picture Courtesy: Green Virus गौरव मिश्रा। निशांत त्रिपाठी भारतीय सिनेजगत के एक प्रतिष्ठित और रचनात्मक कला में निपुण माने जाने वाले नाम हैं। आजकल उनका नाम उनकी फिल्म ‘मारक’ के कारण चर्चा का विषय बना हुआ है। फिल्म ‘मारक’ मोबाइल फोन के कैमरे से शूट कर बनाई गई  है। नब्बे…

इतिहास के पन्नों से / जब पर्यावरण के लिए लोगों ने दी ‘प्राणों की आहुति’

रोजर टोरी पीटरसन एक अमेरिकी प्रकृतिवादी, पक्षी विज्ञानी, कलाकार और शिक्षक थे। उन्होंने कहा था, ‘चिड़िया पर्यावरण का एक संकेतक है। अगर वे मुसीबत में हैं, तो हम भी बहुत जल्द मुसीबत में आ जाएंगे।’ इस समय पर्यावरण को बचाने के लिए पूरी दुनिया बहस में उलझी हुई है और…

पढ़ें और सीखें / ऐसा देश जहां गंदगी फैलाई तो जाना पड़ सकता है जेल

संजीव शर्मा।  भारत में स्वच्छता मिशन यानी झाडू पकड़कर फोटो खिंचवाना और बाद में भूल जाना यह आम है। लेकिन, पूर्वी अफ़्रीकी देश रवांडा में ऐसा बिल्कुल नहीं है। यहां आपने यदि गलती से भी मिस्टेक की तो 1 लाख 24 हजार फ्रेंक (रवांडा की मुद्रा) जुर्माना और 6 माह…

सलाह/ ‘विश्वास की शक्ति’ जाग्रत करने का सबसे आसान तरीका

जिंदगी की यात्रा में कई मोढ़ हैं, कई ठहराव हैं तो कई किनारे और हम इस कश्ती के नाविक हैं। यह बातें हमने बचपन से कई लोगों से कई तरह से सुनी हैं, लेकिन इन्हें अमल में कितने लोग लाते हैं? शायद बहुत कम लोग… गौर करने वाली बात यह…

नजरिया / सफलता के लिए खुद बनें अपनी जिंदगी के सीईओ

हम जो भी हैं, जैसे भी हैं अपनी दिनचर्या, सोचने की क्षमता और अपने द्वारा किए जा रहे कर्मों के कारण ही हैं। दरअसल, हम जहां हैं उसकी वजह खुद होते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो आप अपनी जिंदगी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ‘सीईओ ‘ हैं। यह आप ही…

समाधान / जब मन हो जाए दुःखी तो खुद से पूछें ये सवाल

कई लोगों की ये शिकायत रहती है कि उनका मन किसी काम में कभी-कभी नहीं लगता, ऐसे में वो अपने आस-पास रहने वाले लोगों से दूरियां बनाने लगते हैं। ऐसा क्यों होता है? यदि यह प्रश्न दुःखी मन से घिरा हुआ व्यक्ति खुद से पूछे तो वह उस समस्या से…

नजरिया / सेल्फ इम्प्रूवमेंट के लिए इससे बेहतर विकल्प नहीं

खुद को बेहतर बनाने की चाहत अमूमन हम सभी में होती है। कई लोग, कई तरह से खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करते हैं, लेकिन यदि आप सेल्फ इम्प्रूवमेंट के जरिए खुद को इम्प्रूव करना चाहते हैं तो रोज डायरी लिखिए। डायरी लिखना काफी पुराना आइडिया है, जिसके बारे…

समाधान / मुस्कुराइए जिंदगी की आधी समस्याएं हो जाएंगी दूर

एक छोटा बच्चा जब अपनी मां की गोद में होता है और एक भीनी सी मुस्कान बिखेरता है और फिर उसकी मां उसे जादू की झप्पी देती है। अमूमन ऐसा ही होता है। हमें उस छोटे बच्चे से सीखना चाहिए कि मुस्कुराने से दुनिया की आधी समस्याओं को दूर किया…

समाधान / कई लोगों का पसंदीदा प्रश्न ‘कब होगी किस्मत मेहरबान’

किस्मत और मेहनत दोनों एक दूसरे के साथ चलती हैं। जब कोई 99 प्रतिशत मेहनत करता हैं तो 1 प्रतिशत किस्मत ही होती है, जो सफलता दिलाती है। चाय की दुकान हो या सरपंच का मकान हर जगह किस्मत की बात होती है, लेकिन यह कोई नहीं पूछता कि खुदा…

विश्वास / तुम्हारा हौसला कितना बड़ा है अपनी तकलीफ को बताओ

कॉलेज की सुहानी जिंदगी से निकलकर जब स्टूडेंट्स जॉब मार्केट में अपना रेज्यूमे लेकर किसी भी कंपनी के दरवाजे पर दस्तक देता है तो इंटरव्यू में उससे अमूमन एक सवाल पूछा जाता है आप अपने को 5 साल बाद कहां देखते हैं। इसका उत्तर अलग-अलग लोग बेहद अलग तरीके से…