Press "Enter" to skip to content

सोशल हलचल

चित्र : स्वच्छता सर्वेक्षण में हर बार नम्बर-1 के पायदान पर रहने वाला शहर ‘इंदौर’। भारत में, स्वच्छता के बारे में सदियों से जागरुकता रही है, लेकिन सार्वजनिक और घरेलू स्तर पर कुछ कार्य ऐसे हैं, जो सदियों से चले आ रहे हैं, मसलन खुले में शौच और सार्वजनिक जगहों…
पाटा से तैयार नमक को ढोती एक अगरिया महिला। चित्र : ध्वनित पांड्या/एएचआरएम। रवलीन कौर। गुजरात के रण में अगरिया समुदाय के लोग नमक बनाने का काम करते हैं। जमीन पर बनने वाला देश का 30 फीसदी नमक यहीं से आता है। नमक बनाने वाले मजदूरों का जीवन स्तर बेहद…
चित्र : तमिलनाडु में दशहरे के दिन मां दुर्गा के रूप चामुंडेश्वरी की पूजा होती है। इस पर्व को वहां ‘गोलू’ के नाम से संबोधित किया जाता है। दशहरा शब्द का संस्कृत में अर्थ होता है ‘सूर्य का उदय ना होना’ और विजयादशमी का अर्थ विजया + दशमाई यानी दसवें…

मध्य प्रदेश / अक्षय ऊर्जा की बड़ी परियोजनाएं, फिर भी विद्युत संकट?

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित बड़ा तालाब पर लगी सोलर परियोजना का एरियल व्यू। चित्र : स्मार्ट सिटी भोपाल। मनीष चंद्र मिश्रा। कोयले से बिजली बनाने में अग्रणी रहा मध्य प्रदेश अक्षय ऊर्जा के मामले में सुस्त दिख रहा है। अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में देखें तो 2022 तक…

हसदेव अरण्य / ‘कोयले की खदान और हाथियों का घर’, छत्तीसगढ़ सरकार को किस बात का है डर?

देश में सर्वाधिक कोयला उत्पादन करने वाले छत्तीसगढ़ में 5990.78 करोड़ टन कोयला का भंडार है। यह देश में उपलब्ध कुल कोयला भंडार का करीब 18.34 फ़ीसदी है। छत्तीसगढ़ के पर्यावरण हितैशी संगठनों का आरोप है कि कोयला खदानों के लोभ में जंगलों से हाथी बेदखल किये जा रहे हैं।…

कोयला खनन / आशंकाओं के अंधकार में, छत्तीसगढ़ के ‘हसदेव अरण्य का भविष्य’

हसदेव वन में एक वो भी वक्त था, जब यहां कोई गैर वन संबंधी गतिविधि नहीं हो सकती थी। खनन से यहां की संवेदनशील जलवायु प्रभावित होगी। चित्र : मयंक अग्रवाल। मयंक अग्रवाल। छत्तीसगढ़ के हसदेव अरण्य की गिनती प्राचीन जंगलों में होती है। एक अध्ययन के सामने आने के…

राजस्थान / यहां जानें, इस गांव में कैसे ‘बारिश की बूंद’ ने बचाई हजारों जिंदगी!

खारा पानी पीने से कई बीमारियां होती थीं। इलाज में पैसा खर्च हो जाता था। बारिश के पानी को सहेजकर लोगों ने इस समस्या से निजात पाई है। चित्र : प्रयास केन्द्र हरसौली माधव शर्मा। राजस्थान के सांभर झील के नजदीकी क्षेत्र में भूजल में खारापन इतना अधिक है कि…

राजनीति / सिर्फ सोनिया गांधी के पास है ‘कांग्रेस के दर्द की दवा’

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। भारतीय लोकतंत्र के लिए इससे ज्यादा चिंता का विषय क्या हो सकता है कि भारत में कोई सशक्त विरोधी दल नहीं है। इस खाली जगह को कांग्रेस भर सकती थी लेकिन वह निरंतर कमजोर होती जा रही है। भारतीय जनता पार्टी के बाद यही एक मात्र अखिल…

विवाह / तिब्बत के सामने नया संकट! क्या ये आशंका है या सच?

प्रतीकात्मक चित्र : तिब्बती महिलाएं। क्लाउड अर्पि, फ्रेंच-भाषा के लेखक, पत्रकार, इतिहासकार। चीन चाहता है कि निर्वासित तिब्बत सरकार यह विश्वास कर ले कि चीन ने 70 साल पहले तिब्बत को मुक्त करा दिया था। वास्तव में ऐसा नहीं हुआ था। यह सच है कि 23 मई, 1951 को तिब्बत…

तिब्बत / …तो क्या भारत-अमेरिका ‘तिब्बत नीति’ विकसित कर रहा है?

चित्र : भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर साथ में अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन। डॉ. तेनज़िन त्सुल्त्रिम। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने बीते दिनों, दलाई लामा के नई दिल्ली ब्यूरो प्रतिनिधि न्गोदुप डोंगचुंग और तिब्बत हाउस, दिल्ली के निदेशक गेशे दोरजी दामदुल के साथ ऐतिहासिक बैठक की। इस…

सौर ऊर्जा / क्या झारखंड में ‘जोहार योजना’ से बदलेगी किसानों की किस्मत?

सोलर पंप के साथ समूह की महिलाएं। भूजल संरक्षण के लिए इन सोलर पंप का इस्तेमाल सिर्फ सतही पानी को पंप करने में किया जा सकता है। चित्र : श्रीकांत चौधरी श्रीकांत चौधरी। झारखंड के अधिकतर किसान खेती के लिए बारिश पर निर्भर हैं और पानी की कमी के कारण…

स्वच्छ ऊर्जा / इलेक्ट्रिक वाहनों के विस्तार की कोशिश में ओडिशा!

भुवनेश्वर एवं कटक में राज्य की बसें अक्सर अक्सर देखने को मिल जाती हैं। जल्द ही ऐसी 50 बसें बैटरी से चलेंगी। चित्र : मनीष कुमार मनीष कुमार। ओडिशा सरकार ने सितम्बर के महीने में अपने नए इलेक्ट्रिक वाहन नीति की घोषणा की जिसमें उपभोक्ता एवं इससे जुड़े उद्योगों को…

ईश-निंदा / माननीय! भारत को पाकिस्तान ना बनाएं?

चित्र सौजन्य : लाइव लॉ डॉ. वेदप्रताप वैदिक। इलाहाबाद उच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश शेखर कुमार यादव ने आकाश जाटव नामक व्यक्ति को जमानत पर रिहा करते हुए कहा कि राम और कृष्ण के विरुद्ध अपमानजनक टिप्पणी करने वालों के विरुद्ध सख्त सजा का प्रावधान होना चाहिए। ये दोनों महापुरुष…

टैक्स चोरी / देश में समृद्धि लाने का विकल्प, ‘आय करमुक्त और खर्च करयुक्त’!

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। काला धन छिपाने और टैक्स चोरी करने के कई तरीके हैं लेकिन जब आपके हाथों अरबों-खरबों आ जाएं तो आप कुछ ऐसे तरीके अपनाते हैं कि आप सरकार की पकड़ के बिल्कुल बाहर हो जाएं। इनमें आजकल सबसे ज्यादा पसंदीदा तरीका यह है कि आप अपना सारा…

रिसर्च / भारतीय राजनीति में ‘ध्रुवीकरण’ के बीच आम आदमी

प्रतीकात्मक चित्र। डॉ. वेदप्रताप वैदिक। दिल्ली के ‘सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च’ ने एक महत्वपूर्ण शोध-पत्र प्रकाशित किया है, जो हमारी वर्तमान भारतीय सरकार के लिए उत्तम दिशा-बोधक हो सकता है। इस सेंटर की स्थापना डॉ. पाई पणंदीकर ने की थी। यह शोध-केंद्र मौलिक शोध और निर्भीक विश्लेषण के लिए जाना…