Press "Enter" to skip to content

जीवन / यदि तलाक हो जाए, तो क्या दूसरी शादी करना ठीक है?

प्रतीकात्मक चित्र।

क्या तलाक हो जाना बुरी बात है? कैसे तलाक से गरिमामय तरीके से गुजरें? तलाक के बाद दोबारा शादी करना, क्या ठीक है? दूसरी शादी का बच्चे पर क्या प्रभाव पड़ता है? तलाक से जुड़े तमाम प्रश्नों के उत्तर और इससे जुड़े सभी पहलुओं के बारे में जानना बेहद जरूरी होता है, यदि इस तरह की परिस्थिति जीवन में बन रही हो, तो संभलने के लिए इन जरूरी बातों को जानना जरूरी होता है।

  • सद्गुरु जग्गी वासुदेव, आध्यात्मिक गुरु।

अगर हम दूसरे व्यक्ति से झगड़े बिना रह पाते तो तलाक का प्रश्न नहीं उठता। आप सड़क पर किसी से नहीं झगड़ रहे, आप एक ऐसे व्यक्ति सेझगड़ रहे हैं जिसे आपने एक समय पर सबसे अद्भुत व्यक्ति समझा था। झगडा इसलिए नहीं है कि वह व्यक्ति अचानक घटिया बन गया। झगड़ा इसलिए है, क्यूंकि जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, कुछ बदलाव आते हैं, और अब हम उन बदलावों को स्वीकार नहीं करना चाहते।

दो लोगों में बदलाव अलग-अलग किस्मों के होते हैं, और यह ठीक है। हमें साथ रहने के लिए एक जैसा होना जरूरी नहीं है। ये जरूरी नहीं कि दो लोगों को एक जैसी चीजें पसंद हो, कि वे एक जैसी ही चीज़ें करें या एक जैसा महसूस करें। लोग बिलकुल अलग तरह के होकर भी, एक साथ रह सकते हैं। ये सोचना कि दूसरे व्यक्ति को बिल्कुल आप जैसा होना चाहिए, कुछ हद तक बचकाना है।

दुनिया के किसी भी कोने में दो व्यक्ति बिलकुल एक जैसे नहीं हो सकते। दो व्यक्तियों में जीवन के किसी एक पहलू में कोई न कोई फ़र्क होगा। सड़क चलते आदमी कि बात छोडिए, क्या अपने सबसे नजदीकी व्यक्ति के साथ ही, आपके अनेक स्तरों पर, कुछ न कुछ विरोध नहीं होते?

एक अमरीकी लेखक रोबर्ट ओवन ने कहा है, ‘दुनिया में सिवाय तुम्हारे और मेरे हर एक व्यक्ति अजीब है, लेकिन तुम भी थोड़े अजीब ही लगते हो’। कृपया अपने मन को देखें और उसे समझें, अगर आप अपने तर्क के हिसाब से चलेंगे, तो दुनिया में कोई भी सही नहीं दिखेगा।

ज़रा अपने जीवन में अपने सबसे प्रिय व्यक्ति को ध्यान से जांचें, और देखें, उस व्यक्ति के प्रति भी आपका कितने स्तरों पर विरोध हैं। सड़क चलते आदमी की बात छोडिये, क्या अपने सबसे नजदीकी व्यक्ति के साथ ही आपके अनेक स्तरों पर, कुछ न कुछ विरोध नहीं होते? तो इसका मतलब आपके लिए दुनिया में कोई भी सही नहीं है।

अगर कोई भी सही नहीं है, तो प्रश्न सही और ग़लत का नहीं, बात बस इतनी है कि आप मानसिक तौर पर बीमार होते जा रहे हैं। मानसिक तौर पर बीमार होने का सबसे पहला लक्षण ये है, कि आपको लगने लगता है कि कोई भी ठीक नहीं है। मालूम पड़ता है, आपने पहला कदम पहले ही उठा लिया है, अगर आप इस पर आगे बढ़ेंगे, परेशानियां सिर्फ़ बढेंगी ही।

अगर अलग-अलग चीज़ों को लेकर, दो व्यक्तियों की समझ अलग है या किसी काम को करने के तरीक़े में फ़र्क है, तो इसमें कोई परेशानी नहीं है। बुनियादी अहसास या भावनाएं ही हैं जो लोगों को साथ रखती हैं। आखिर आप दोनों एक दूसरे की ख़ुशहाली को तलाशते हुए ही एक साथ जुड़े थे।

एक बात समझ लें, जिसे आजकल प्यार कह दिया जाता है वो आमतौर पर बस एक आपसी फ़ायदे की स्कीम है। आपकी कुछ ज़रूरतें हैं, कुछ ज़रूरतें दूसरे व्यक्ति की हैं और लोग इन्हीं ज़रूरतों को पूरा करने के लिए साथ जुड़ते हैं। ज़रूरतें कई तरह की हो सकती हैं, शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक, सामाजिक, या आर्थिक। जैसे ही आपकी ज़रुरत पूरी नहीं होती, ये (रिश्ता) ख़त्म हो जाता है। आप ऐसे ही चल रहे हैं। रिश्ते में कुछ और है ही नहीं। आप दूसरे व्यक्ति का सबसे अच्छा स्वरुप पाना चाहते हैं, दूसरा व्यक्ति आपमें से आपका बेहतरीन स्वरुप निचोड़ लेना चाहता है। ये तो युद्ध है, प्रेम-सम्बन्ध नहीं।

प्रेम क्या है?

जिसे आप प्यार कहते हैं, वो किसी और के बारे में नहीं है, ये आपके बारे में है, आप ख़ुद अपने भीतर कैसे हैं। अगर आपका शरीर ख़ुशनुमा हो जाता है, हम इसे स्वास्थ्य या सुख कहते हैं। अगर आपका मन ख़ुशनुमा हो जाता है, हम इसे प्रसन्नता या हर्ष कहते हैं। अगर आपकी भावनाएं बहुत ख़ुशनुमा हो जाती हैं, हम इसे प्यार कहते हैं।

अगर आपकी ऊर्जाएं, बहुत ख़ुशनुमा हो जायें, हम इसे परमानन्द कहते हैं। ख़ुद के भीतर कैसे रहे इसके ख़ास तरीके हैं। इसका किसी और से कुछ लेना-देना नहीं है, पर आप इसे किसी दूसरे से जोड़ रहे हैं। अगर आपके मन, आपकी भावनाओं और शरीर को खुश करने कि ज़िम्मेदारी किसी और की है, तो ये ज्यादा समय तक नहीं चलेगा।

कोई भी इंसान ये हमेशा के लिए नहीं कर सकता। शायद शुरू में जब आप बस मिले ही थे, उन्होंने 33 दिनों तक आपके मन, भावनाओं और शरीर को खुश रखने के लिए सब कुछ किया, पर कोई भी ये हमेशा के लिए नहीं कर सकता, किसी भी इंसान के लिये ऐसा करना संभव नहीं है।

तो, आपको अपने मन, भावनाओं और शरीर को खुश रखना सीखना होगा। अगर आपकी भावनाएं ख़ुश हैं, तो आप स्वयं अपने भीतर प्रेम महसूस करेंगे और चाहे जो भी मन-मुटाव हों, सब ठीक रहेगा। जब ऐसा नहीं होता, तब एक छोटा सा मतभेद भी बहुत बड़ी समस्या बन जाता है। लोग आपके नज़दीक तभी आते हैं जब आप में एक तरह की उमंग होती है।

तलाक एक चुनी हुई मौत

दरअसल, जब आप साथ होते हैं तो आपके जीवनसाथी की याद का निर्माण हो चुका होता है चाहे वो स्त्री हो या पुरुष, आप ऐसी ही इससे छुटकारा नहीं पा सकते। अगर आप भावनात्मक और मानसिक रूप से संतुलित भी हैं, कि आप इसे झेल जाएं, पर आप देखेंगे, कि फिर भी आपका पूरा सिस्टम एक ख़ास स्तर की तक़लीफ से गुज़रेगा। ख़ास तौर पर, जब मृत्यु होती है, आप देखेंगे कि आपके शरीर की हर कोशिका में आपके जीवनसाथी की याद बसती है। अगर आप अधिक समय एक-दूसरे के साथ जी चुके हैं, तो ये सिर्फ़, भावनात्मक और मानसिक प्रक्रिया नहीं बल्कि एक बहुत ही शारीरिक प्रक्रिया है।

तलाक एक ख़ुद चुनी हुई मौत है। आपने उस चीज़ को मार डालने का फैसला ले लिया है, जो एक तरह से आपका अपना हिस्सा है। अस्तित्व और मानव सिस्टम की यही वह समझ हैं, जिसके कारण वे कहते हैं, ‘जब तक मौत ना जुदा कर दे, आप अलग नहीं होगे’, क्यों कि यहां एक शारीरिक याद है, और शरीर के पास मन के जैसा संतुलन नहीं होता। मन फैसला लेकर अपना रास्ता बदल सकता है, लेकिन शरीर वापस नहीं मुड सकता है। जितनी यादें आप इसमें बनाते हैं, ये उतना ही भ्रमित होता चला जाता है।

तलाक और दूसरी शादी

अधिकतर लोग सोचते हैं कि तलाक से उभरने का सबसे बढ़िया तरीका, तुरंत वैसे ही दूसरे रिश्ते में कूद पड़ना है। ऐसा करके आप और अधिक संघर्ष में पड़ जायेंगे और अपने सिस्टम में उथल-पुथल का कारक बनेंगे। ये बहुत ज्यादा ज़रूरी है कि आप अपने शरीर को उस याद से निबटने का पर्याप्त समय दें, उस याद से एक ख़ास दूरी बना पाएं। नहीं तो, आप स्वयं को ऐसी स्थिति में पाएंगे, जहां जीवन में ख़ुद को शांतिमय और ख़ुशहाल बना पाना आपके लिए अत्यधिक कठिन काम बन जायेगा।

जब तलाक ही एक रास्ता हो…

सबसे अच्छा होगा कि तलाक से बचा जाए पर अगर किसी कारणवश आप ऐसी स्थिति में आ पहुंचे हैं जहां आपने तलाक लेने का फैसला कर लिया है, तो आपको ये समझने कि ज़रुरत है कि तलाक़ का यही मतलब है कि आपने अपने किसी हिस्से को मार डालने का चुनाव कर लिया है। दो लोग जिन्होंने अपनी भावनाएं, अपने शरीर, अपनी संवेदनाएं, और रहने की जगह एक दूसरे के साथ बांटी है, उनका इसे फाड़ फेंकना लगभग ख़ुद को

फाड़ फेंकने जैसा है क्यूंकि दो याद्दाश्तें एक दुसरे में कई तरह से घुल-मिल जाती हैं। इसके बावजूद कि शायद आप लगभग ऐसी जगह आ पहुंचे हैं जहां अब आप दूसरे व्यक्ति का सामना भी नहीं कर सकते ये फिर भी दुःख देता है, सिर्फ़ इसलिए कि आप एक याद को फाड़ फेंकना चाहते हैं, ऐसी याद जो आप स्वयं हैं, क्यूंकि आप यहां याददाश्त के एक बण्डल की तरह जीते हैं।

आप सिर्फ अपने जीवनसाथी को तलाक दे रहे हैं, आपको ख़ुद को तलाक़ देने की ज़रुरत नहीं है। पर आपको समझना ही होगा कि आपने ख़ुद को ही तलाक दे दिया है। अपने आपको किसी तरह सम्पूर्ण महसूस करवाने के लिए, आप एक रिश्ते में जुडे और आपके वजूद का पोषण हुआ, चाहे वो एक भागीदारी थी या एक बंधन ये इस पर निर्भर करता है कि आपने इसे कैसे निभाया। अधिकतर ऐसी तमाम भागीदारियां इसलिए बनती हैं क्यूंकि इसके बिना आप ख़ुद को अपर्याप्त और अधूरे महसूस करते हैं। पर जीवन ऐसा नहीं है, आप एक सम्पूर्ण जीवन प्रक्रिया हैं, इसे किसी बाहरी सहारे की ज़रुरत नहीं है।

अगर आप तलाक़ जैसी स्थिति में आ पहुंचे हैं, तो ये भीतर की ओर मुड़ने का समय है. ये जीवन की सम्पूर्णता को जानने का समय है। ये वो समय है कि आप जानें कि ये प्राणी एक सम्पूर्ण प्राणी है इसे ऐसा होने के लिए किसी बाहरी सहारे की ज़रुरत नहीं है। समाज में जीवित रहने के लिए आपसी निर्भरताएं होती हैं पर इस प्राणी का बुनियादी अस्तित्व, संतुलन, और इसके होने कि संभावना, अपने आप में एक सम्पूर्ण प्रक्रिया है। अगर आप अपने जीवनसाथी को तलाक दे रहे हैं, तो ये अपने आप में ही काफ़ी बुरा है, ख़ुद को ख़ुद से तलाक मत दीजिए।

तलाक के बाद सिंगल मदर होना

ये सोचना कि एक और शादी बच्चे को संभाल लेगी। ये एक बहुत बुरा विचार है। मैं ये नहीं कह रहा हूं कि ये नहीं संभालेगी, हो सकता है कि ये संभाल ले। पर ये सोचना कि, ‘बच्चे के जैविक पिता तो काम नहीं आए, अगर मैं एक और आदमी ले आऊं, तो सब ठीक हो जायेगा’, ये बहुत ख़तरनाक विचार है।

ऐसी चीज़ें सिर्फ़ दस प्रतिशत मामलों में ही काम करती हैं। नब्बे प्रतिशत ये समाधान करने की बजाय समस्या को बढ़ा देती हैं। आपने अपनी शादी क्यूं तोड़ दी, ये आपके ऊपर है। अगर आपने इसे तोड़ने का चुनाव किया है तो आप कम से कम ख़ुद को हर संभव तरीक़े से बच्चे का एक सम्पूर्ण अभिभावक बनाने के योग्य बनें। क्योंकि आप स्वयं किसी और चीज़ के लिए तड़प रही हैं, इसलिए बच्चा भी आपके साथ तड़पता है।

कृपया बच्चे को ऐसी असहाय स्थिति में लेकर न आएं, जहां वो किसी ऐसे के लिए तड़पे जो मौजूद नहीं है। आपका बेटा/बेटी आपके साथ कितना समय बिताना चाहता है? मुश्किल से थोडा सा। वो अपनी चीज़ों में व्यस्त है, अगर आपने उसे ऐसा असहाय प्राणी न बना दिया हो कि उसे बस हमेशा आपसे चिपका रहना पड़े, नहीं तो उसके पास करने के लिए अपनी अलग चीज़ें हैं। यही जीवन की प्रकृति है, बच्चों के पास करने के लिए अपनी चीज़ें होती हैं। आपको बस एक आंख से ये देखते रहना होता है कि वे ख़ुद के लिए कोई गलत चीज़ें न करने लग जाएं। उनको आपसे कोई मतलब नहीं है।

क्या दूसरी शादी करना ठीक है?

तो, अगर आप दोबारा शादी करना चाहते हैं। ये आपके ऊपर है। ये चुनाव आपको ख़ुद करना है। इसे बच्चे पर मत थोपिए। बच्चे को ऐसा बनाइये कि उसे न आपकी ज़रुरत हो न अपने पिता की। वो अपने-आप के साथ ठीक हो। उसे बस पोषण और परवाह की ज़रुरत है, और कुछ भी नहीं। आप कुछ भी करेंगी, उसका एक परिणाम होगा। अगर आप शादी नहीं करतीं, तो उसका एक तरह का परिणाम होगा।

अगर आप शादी करती हैं, तो उसका दूसरी तरह का परिणाम होगा। आपने पहले ही एक अनुभव ले लिया है, तो शायद आप इसे बेहतर संभाल पाएं। हम कह नहीं सकते। पर दोनों चीज़ों के अपने परिणाम होंगे और ज़रूरी नहीं कि परिणाम मधुर या अप्रिय हों। ये बस इस पर निर्भर करता है कि आप उन्हें कैसे लेती हैं। अगर आप परिणामों को खुशी-खुशी लेती हैं, तो ये एक प्यार भरी मेहनत होगी, नहीं तो बस मेहनत।

आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंक्डिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

More from जीने की राहMore posts in जीने की राह »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *