Press "Enter" to skip to content

नवरात्रि / मानवता को जीवंत और ‘आत्मा की अज्ञानता’ को दूर करने का अवसर

देवी मां के रूप में, मां दुर्गा मानवता को शांति और खुशी के एक नए युग में ले जाती हैं। लेकिन वह ऐसा अंधकार यानी नकारात्मक शक्तियों को समाप्त करने के बाद ही करती हैं, उनसे समझौता करके नहीं, उन्हें सांत्वना देकर या उन्हें खुश करके तो बिलकुल भी नहीं।

एक ओर, जहां मां काली अपने शौर्य पहलू के रूप में उभरती हैं, पुराने कर्मों, मजबूरियों और आसक्तियों को भंग कर देती हैं जो हमें एक नई रचना को प्रकट करने के लिए धर्म और अध्यात्म से जोड़ती हैं। तो दूसरी ओर, मां दुर्गा, हमें वेदों के राज्य के रूप में समुद्र के पार एक जहाज की तरह सभी कठिनाइयों में दूर ले जाती है। हमें खतरे से बचाने वाली देवी के रूप में उन्हें दुर्गा-तारिणी या दुर्गा-तारा कहा जाता है। वह जो सबसे बड़ा अंधकार दूर करती है, वह है हमारे अपने भीतर ‘आत्मा की अज्ञानता’।

वर्तमान में, हमें पहले की ही तरह महिषासुर मर्दिनी के रूप में मां दुर्गा की आवश्यकता है, क्यों कि आज हर जगह कलह और संघर्ष के साथ संसार में एक नया अंधकार दस्तक दे चुका है। इसे दूर करने के लिए केवल मां दुर्गा के पास अग्नि की दिव्य शक्ति और तेज है, हमारा मानव मन ये सब नहीं कर सकता इसलिए हमें उनकी आराधना के जरिए मन को सशक्त बनाने की जरूरत है।

मां दुर्गा का सम्मान करने का अर्थ है सामाजिक, राजनीतिक, योग और आध्यात्मिकता के आंतरिक क्षेत्र में महिलाओं को सशक्त बनाना। हमारे भीतर दुर्गा की शक्ति को जगाने के लिए इसलिए भी आवश्यक है कि हम निडर और अथक रूप से नकारात्मक शक्तियों को चुनौती दे सकें, जिसमें हमारी अपनी इच्छाशक्ति की कमजोरी भी शामिल है जो हमें नकारात्मकता और भ्रष्टाचार को सहन करने या क्षमा करने की अनुमति देती है। यह आवश्यक है कि हम अपने उच्चतम धर्म को प्राप्त करने के लिए अपने भीतर मौजूद अर्जुन को जगाएं।

हम सभी मानवता के लिए एक नया विश्व युग लाने के लिए योग शक्ति विकसित करनी होगी। वैदिक योग और ध्यान की शिक्षाएं पहले से ही विश्व मन में बड़े बदलाव ला रही हैं। फिर भी लालच, हिंसा, अहंकार और कट्टरता का एक अत्याचारी महिषासुर बना हुआ है जिसे उच्च शक्तियों को पूरी तरह से प्रकट करने की अनुमति देने के लिए हटाया जाना चाहिए।

मां दुर्गा अनन्त शक्ति के रूप में हमारे संघर्षशील सांसारिक क्षेत्र पर झूठ की छाया को दूर करने के लिए समय-समय पर अवतरित होती हैं। नवरात्रि इस प्रकल्प का जीवंत उदाहरण है। पर्यावरण से लेकर स्वास्थ्य, सामाजिक और राजनीतिक विभाजन तक अपने बढ़ते वैश्विक संकट से निपटने के लिए आज हमें दुर्गा की शक्ति को वापस लाना होगा।

आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंक्डिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

More from अध्यात्मMore posts in अध्यात्म »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *