Press "Enter" to skip to content

नरेंद्र मोदी

भारत में कोरोना महामारी की गिरफ्त में जनता बेबस और लाचार है। सांसद, विधायक और पार्षद जिन्हें मदद करनी चाहिए वो ज्यादातर नदारद हैं। कोरोना के कारण अपनों से बिछड़ते या उन्हें इस महामारी में स्वस्थ्य करने की जद्दोजहद में लोग परेशान हैं, उनकी मदद सरकार के उन नुमाइंदो को…
डॉ. वेदप्रताप वैदिक। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पत्र के जवाब में पत्र लिखा, यह अपने आप में उल्लेखनीय बात है लेकिन 23 मार्च के पत्र का जवाब देने में उन्हें एक हफ्ता लग गया, यह भी विचारणीय तथ्य है। इससे भी बड़ी बात…
अखिल पाराशर, बीजिंग, चीन। भारत की केंद्र सरकार ने देश की नई शिक्षा नीति को मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया है। इस साल जो शिक्षा नीति आई है यह भारत के इतिहास में तीसरी शिक्षा नीति…

डोनाल्ड ट्रंप / नादान से दोस्ती, जी का जंजाल

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी कमाल के आदमी हैं। एक तरफ चीन के खिलाफ उन्होंने कई मोर्चे खोल रखे हैं और दूसरी तरफ सीमा को लेकर वे भारत और चीन के बीच मध्यस्थ या पंच की भूमिका निभाना चाहते हैं। मध्यस्थ और पंच की भूमिका निभाने की…

कोरोना / तो क्या देश की चिंता सिर्फ एक ही व्यक्ति को है?

चित्र: सोनिया गांधी, वरिष्ठ कांग्रेस नेता। डॉ. वेदप्रताप वैदिक। भारत की जनता को इस बात पर गर्व होना चाहिए कि देश के सभी राजनीतिक दल कोरोना के विरुद्ध एकजुट हो गए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखे अपने पत्र में कुछ रचनात्मक सुझाव दिए हैं। केरल,…

विदेश नीति / क्या ट्रंप की यात्रा, ‘अमेरिका फायदे’ की सिर्फ एक नौटंकी है?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की इस भारत-यात्रा से भारत को कितना लाभ हुआ, यह तो यात्रा के बाद ही पता चलेगा लेकिन ट्रंप ऐसे नेता हैं, जो अमेरिकी फायदे के लिए किसी भी देश को कितना ही निचोड़ सकते हैं। यह तथ्य उनकी ब्रिटेन, यूरोप तथा एशियाई…

जनतंत्र / दिल्ली चुनाव में बीजेपी ध्रुवीकरण कर रही है या धुंआकरण?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। एक पुरानी कहावत है कि प्रेम और युद्ध में किसी नियम-कायदे का पालन नहीं होता। यह कहावत सबसे ज्यादा लागू होती है हमारे चुनावों पर! चुनाव जीतने के लिए कौन-सी मर्यादा भंग नहीं होती? कोई भी प्रमुख उम्मीदवार यह दावा नहीं कर सकता कि उसने चुनाव-अभियान के…

मुद्दा / सरकार की इस गलत नीति का आम आदमी को होता है सीधा नुकसान

प्रतीकात्मक चित्र ‘आम आदमी’। भारत में शिक्षित बेरोजगारी इतनी ज्यादा है कि यदि केंद्र सरकार लाखों पद पर किसी विभाग में वेकेंसी निकाले तो फिर भी कई करोड़ शिक्षित युवा बेरोजगार ही रहेंगे। इसकी कई वजह हैं। सरकार और आला दर्जे के अधिकारी कहते हैं कि युवाओं में स्किल्स की…

चुनौती/ क्या मोदी ब्रांड का जीतना, भारत के लिए एक उम्मीद है

Courtesy: narendramodi.in लोकसभा चुनाव 2019 देश के राजनीतिक इतिहास में हमेशा याद रखा जाएगा, जिसके कई कारण हैं। लेकिन, इन चुनाव में सबसे बड़ी बात यह हुई कि सबसे ज्यादा क्रिमिनल एक्टिविटीज करने वाले प्रत्याशी खड़े हुए, जिनमें से कई अब संसद पहुंच चुके हैं। यह जनता का मत है,…

मुद्दा / ‘एक व्यक्ति एक वोट’ तो 1 नेता को चुनाव लड़ने की अनुमति 2 निर्वाचन क्षेत्र से क्यों?

चित्र: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में एक व्यक्ति, एक ही वोट दे सकता है, लेकिन एक नेता दो निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ सकता है। यह तानाशाही नहीं बल्कि भारत में चुनाव जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 (RPA) के द्वारा ये संभव है। चुनाव लोकतंत्र का…