Press "Enter" to skip to content

climate change

प्रतीकात्मक चित्र। संकलन : अमित कुमार सेन। हम एक ऐसी दुनिया, या कहें एक ऐसे क्षण में रह रहे हैं जहां ज्ञान, करुणा, आशावाद, लचीलापन, साहस और स्पष्ट नज़रिए की बेहद जरूरत है। हमें इन गुणों को अपने अंदर जागृत करने की जरूरत है। यह हम तभी कर सकते हैं,…
स्थानीय लोगों का आरोप है कि काम शुरू होने के कुछ महीने बाद उन्होंने यहां से एक पनचक्की चलाने लायक पानी बाहर निकलते देखा, तब से लगातार पानी बह रहा है। सभी चित्र : त्रिलोचन भट्ट – त्रिलोचन भट्ट। उत्तराखंड में तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों के मद्देनजर आवागमन को सुगम…
चित्र : आए हालू आर्द्रभूमि, तिब्बत। अखिल पाराशर, ल्हासा/तिब्बत। तिब्बत की राजधानी ल्हासा के पश्चिम-उत्तर क्षेत्र में एक विशिष्ट आर्द्रभूमि है, जिसे आए हालू आर्द्रभूमि कहा जाता है। यह दुनिया में सबसे अधिक ऊंचाई वाली और सबसे बड़ी प्राकृतिक आर्द्रभूमि है। न केवल तिब्बत बल्कि चीन में एकमात्र शहरी अंतर्देशीय…

एसडीजी रैंकिंग / पर्यावरण से जुड़े मुद्दे पर ‘नीति आयोग की नीतियों’ ने बढ़ाई उलझन

चित्र : हुगली नदी में मछली पकड़ता एक मछुआरा। तस्वीर– फिल पार्सोन्स/फ्लिकर – कुंदन पांडे। हर साल की तरह इस साल भी नीति आयोग ने विभिन्न सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को ध्यान में रखते हुए देश के राज्यों की रैंकिंग की है। इसमें भूख, शिक्षा और स्वास्थ्य, गरीबी इत्यादि के आकड़ों के…

संरक्षण / यहां जानें, ‘चाय की प्याली’ से क्या है ‘हाथियों का कनेक्शन’

जिंग बोडोसा के चाय बागान को एलीफेंट फ्रेंडली टीम टी सर्टिफिकेट मिला हुआ है। चित्र : सर्टिफाइड एलिफेंट फ्रेंडली टीम टी प्रोग्राम – साहना घोष। असम में जंगल से निकलकर हाथी विशाल चाय बागानों में शरण ले रहे हैं। चाय बागान में इंसानी आवाजाही होती है ऐसे में हाथी और…

समस्या / जलवायु परिवर्तन से कैसे हो रहा ‘मवेशियों की देसी नस्ल को नुकसान’!

विशेषज्ञ मानते हैं कि देसी नस्ल के मवेशियों को भारत में लंबे वक्त से नजरअंदाज किया गया। इसके बदले जर्सी गाय जैसे विदेशी नस्लों को तरजीह दी गई। तस्वीर- मेलोलस्टार/विकिमीडिया कॉमन्स     – मयंक अग्रवाल। भारत में मवेशियों की अच्छी-खासी संख्या है जिन पर क्लाइमेट चेंज यानी मौसम में अनियमित…

छत्तीसगढ़ / राज्य सरकार धान के खेतों में करा रही ‘वृक्षारोपण’, किसे मिलेगा लाभ?

चित्र – मानसून में छत्तीसगढ़ के एक खेत में धान रोपते किसान। प्रतीकात्मक तस्वीर– द डिंगो स्ट्रेटेजी/फ्लिकर – आलोक प्रकाश पुतुल। आदिवासी और जंगल बहुल राज्य छत्तीसगढ़ में सरकार किसानों को अपने खेतों में वृक्षारोपण के लिए प्रोत्साहित कर रही है। धान के खेत में पौधा लगाने वालों को राज्य सरकार…

ऑपरेशन फ्लड / गाय के बारे में वो तथ्य, जो शायद! आप नहीं जानते?

भारत के कुछ क्षेत्रों में, विशेषकर हिमालय के पहाड़ों और अन्य पर्वत श्रृंखलाओं में, मवेशियों विशेषतौर पर गाय और बेल के बिना कृषि की कल्पना भी नहीं कर सकते है। पूरी दुनिया में लगभग सभी पर्वतीय समुदाय पशुधन पर निर्भर हैं। पशु शक्ति पर आधारित खेती में पेट्रोल और डीजल…

विशेष / भाषा, वैश्विक बनाती है इसे नजरअंदाज ना करें

-: 21 फरवरी, अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस :- दुनिया की कोई भी भाषा किसी न किसी की मातृभाषा होती है। इस बात की गंभीरता को नजरअंदाज ना करते हुए। यूनेस्को ने सन् 1999 से हर साल 21 फरवरी को इंटरनेशनल मदर लैंग्वेज डे यानी अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाए जाने की घोषणा…

क्लाइमेट स्ट्राइक / ग्रेटा थनबर्ग, पर्यावरण कार्यकर्ता ने की शुरूआत, अब दिल्ली से बच्चों का भी मिला साथ

Picture: Greta Thunberg, Climate activist क्लाइमेट स्ट्राइक 16 साल की स्वीडिश कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा की गई मुहिम है। जो 2018 में शुरू की गई थी। स्वीडन की 16 साल की एक क्लाइमेट एक्टिविस्ट (जलवायु कार्यकर्ता) ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जलवायु परिवर्तन रोकने की दिशा में कुछ…

मुद्दा / तेजी से पिघल रही अंटार्कटिका की बर्फ, तो क्या सन् 2100 में डूब जाएगा भारत!

वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने अंटार्कटिका की एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें कहा गया है कि धरती का एकमात्र महाद्वीप जो बर्फ से पूरी तरह से ढका हुआ है मानव गतिविधि और ग्लोबल वार्मिंग के कारण, बहुत तेजी से ये बर्फ पिघल रही है। 1992 से 2011 तक,…