Press "Enter" to skip to content

Nepal

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। गलवान घाटी के हत्याकांड पर चीन ने चुप्पी साध रखी है। लेकिन वह भारत पर सीधा कूटनीतिक या सामरिक हमला करने की बजाय अब उसके घेराव की कोशिश कर रहा है। घेराव का मतलब है, भारत के पड़ौसियों को अपने प्रभाव-क्षेत्र में ले लेना! चीन के विदेश…
डॉ. वेदप्रताप वैदिक। इधर कोरोना से भारत निपट ही रहा है कि उधर चीन और नेपाल की सीमाओं पर सिरदर्द खड़ा हो गया है लेकिन संतोष का विषय है कि इन दोनों पड़ोसी देशों के साथ इस सीमा-विवाद ने तूल नहीं पकड़ा। हमारे कुछ अतिउत्साही टीवी चैनल और अखबार कुछ…
चित्र : पिथौरागढ़ और नेपाल की सीमा पर लिपुलेख तक जाती सड़क। डॉ. वेदप्रताप वैदिक। भारत और नेपाल के बीच एक छोटी-सी सड़क को लेकर काफी कहा-सुनी चल पड़ी है। यह सड़क पिथौरागढ़ और नेपाल की सीमा पर है। यह लिपुलेख के कालापानी क्षेत्र से होती हुई सीधी कैलाश-मानसरोवर तक…

रिपोर्ट / गणतंत्र के 13 साल, क्या नेपाल में गणराज्य सफल है?

नेपाल में, गणतंत्र दिवस 28 मई को मनाया जाता है। 13 साल हो चुके हैं। 2008 में जब पहली बार नेपाल गणतंत्र बना तो एक निर्वाचित संविधान सभा ने देश की सदियों पुरानी राजशाही का अंत किया और इसे एक संघीय, लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित किया। उस साल, राष्ट्रपति और एक…

आस्था / पांडवों ने किया था गोत्र वध यहां आकर होना चाहते थे दोषमुक्त

भारत के पीएम नरेंद्र मोदी 11-12 मई, 2018 को नेपाल यात्रा पर हैं। इस दौरान शनिवार 12 मई को मोदी का नेपाल की राजधानी काठमांडू में पशुपतिनाथ मंदिर जाने का भी कार्यक्रम है। नेपाल दौरे की शुरुआत पीएम नरेंद्र मोदी ने जनकपुर से की है। पीएम मोदी ने जनकपुर के…

आस्था / लुंबिनी में 33 साल से प्रज्वलित है विश्व शांति के लिए शांतिदीप

लुंबिनी भगवान बुद्ध की जन्म स्थली है। यह भारत के बिहार राज्य की उत्तरी सीमा के नजदीक वर्तमान नेपाल में स्थित है। उत्तर प्रदेश के ‘ककराहा’ नामक गांव से लुंबिनी 14 मील दूरी पर है। इस स्थान पर सम्राट अशोक द्वारा स्थापित ‘अशोक स्तम्भ’ में ब्राह्मी लिपि में बुद्ध का…

आपदा / 21वीं सदी के सबसे भयावह भूकंप की वो बातें, जिनसे लोग हैं अनजान

25 अप्रैल, 2015 वो दिन जब नेपाल में भूकंप आया। हर तरफ तबाही का मंजर था। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता उस समय 7.9 थी यानी बहुत ज्यादा, लोग चीख रहे थे, लोगों की आंखों में आंसू थे और हर तरफ भागदौड़, उनके पास था अपनों का साथ और…