office politics

वो कहते हैं ना कि ‘नजरिया बदलिए नजारे बदल जाएंगे’। बहरहाल, अप्रैल बीत चुका है, अप्रेजल आ चुका है या आने वाला है और आपके पास हैं दो ऑप्शन्स या तो जॉब चेंज या फिर वर्तमान जॉब को ही जारी रखने का जुनून। लेकिन यह कैसे तय करें। अप्रेजल अच्छा…