Press "Enter" to skip to content

हमारे बारे में

संस्थापक संपादक की कलम से…

हिन्दी फीचर वेबसाइट ‘द फीचर टाइम्स’ पर प्रिय पाठकों के लिए सकारात्मक फीचर आलेख उपलब्ध हैं। यहां मन की शांति के लिए ‘अध्यात्म’ है तो जरूरी मुद्दों को विस्तार से जानने के लिए ‘सोशल हलचल’। दुनिया घूमने के शौकीन हैं तो ‘यात्रा’ है। बच्चों और युवाओं के लिए ‘करियर’ विषय पर विशेष फीचर आलेख। यदि आप कुछ ऐसे लोगों की वास्तविक कहानियां जानना चाहते हैं, जिन्होंने बहुत कम समय या जिंदगी की यात्रा में वो मंजिल हासिल की है जो आपके लिए प्रेरणा है तो यह सब कुछ ‘उड़ान’ और ‘जीने की राह’ में मिलेगा। यहां सब कुछ है, जो आप जानना चाहते हैं।

हमारा मानना है कि दुनिया में जितनी बढ़ती है खुशी, उतनी बढ़ती है इंसानियत The Feature Times पर पाएंगे अपनेपन की खुशियों वाली भावनाएं। अच्छा और सार्थक पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे साथ जहां है आपके लिए हर दिन कुछ बेहद ख़ास। ताकि आप अपने घर, समाज और देश में सकारात्मक माहौल बनाने की भूमिका में अमूल्य योगदान दे सकें।

 

आध्यात्मिक सहयोग (कोलोब्रेशन)

  • ईशा फाउंडेशन : सद्गुरु जग्गी वासुदेव द्वारा स्थापित और निर्देशित आध्यात्मिक संगठन। यह संगठन योग और ध्यान कार्यक्रमों के माध्यम से आध्यात्मिक कल्याण, मानव सशक्तिकरण और सामाजिक पुनरोद्धार पर केंद्रित है।

हमारी पहल

‘फीचर टॉक’ ऑनलाइन मंच है, जहां हमारे पाठक फेसबुक और यूट्यूब के जरिए विभिन्न विषयों पर दुनिया के कई विषय विशेषज्ञ से संवाद कर सकते हैं।

 

‘सार्थक पत्रकारिता’
आगे बढ़ाने में आपका अमिट सहयोग

द फीचर टाइम्स पत्रकारिता और मानवीय मूल्यों को सहजने के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन आर्थिक सहयोग के बिना यह प्रयास कठिन है, हम कई चुनौतियों के बीच रहते हुए 25 मई, 2018 से निरंतर प्रयासरत हैं।

पत्रकारिता चुनौतियों से घिरा वो सामाजिक कार्य है, जहां हर रोज नया इतिहास लिखा जाता है। हम पिछले 2 साल से बिना किसी आर्थिक मदद के बिना इस कार्य में दिन-रात तत्पर हैं ताकि आप बेहतर, स्वच्छ, तटस्थ और मूल्यों पर आधारित फीचर (रूपक) आलेख पढ़ सकें और परिवार, समाज व देश के निर्माण में सकारात्मक योगदान दे सकें।

आप विज्ञापन के माध्यम से हमारा सहयोग कर सकते हैं और हमारे सोशल अकाउंट फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, लिंक्डिन और यूट्यूब को फ़ॉलो/लाइक कर सकते हैं।

यदि आप एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता पर आधारित संस्थान का सहयोग करना चाहते हैं तो अभियान (कैंपेन), पुस्तक समीक्षा (बुक रिव्यू) और एनजीओ/सामाजिक कार्य करने वाली संस्थाएं (कोलोब्रेशन) के लिए संपर्क करें